यूपी एसटीएफ की बड़ी कामयाबी: मुंबई सीरियल ब्लास्ट के मास्टर माइंड डा. जलिस अंसारी को किया गिरफ़्तार

डीएन ब्यूरो

1993 के मुंबई सीरियल ब्लास्ट और अजमेर धमाकों का दोषी आतंकी जलीस अंसारी (68) गुरुवार को मुंबई से लापता होने के बाद आज यूपी एसटीएफ की टीम ने उसे पकड़ लिया है। उसे उच्चतम न्यायालय ने 21 दिन की पैरोल दी थी, उसके खत्म होने से एक दिन पहले ही वह लापता हो गया था। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर...


मुंबईः मुंबई सीरियल ब्लास्ट 1993 में राजधानी एक्सप्रेस ब्लास्ट और पुणे सीरियल ब्लास्ट सहित 90 के दशक में देश भर में 50 से अधिक बम विस्फोटों की साजिश रचकर उन्हें अंजाम देने वाला सीरियल ब्लास्टों का मास्टर माइंड डॉक्टर जलीस अंसारी सेन्ट्रल जेल अजमेर में न्यायिक अभिरक्षा में निरुद्ध था। 69 साल का जलीस अंसारी गुरुवार सुबह मुंबई स्थित अपने घर से लापता हो गया। 

वह 21 दिन पहले अजमेर जेल से पैरोल पर बाहर आया था। वह आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन से जुड़ा था। अजमेर ब्लास्ट के मामले में टाडा कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। अंसारी आतंकियों को बम बनाने की ट्रेनिंग देता था, इसी के चलते वह 'डॉक्टर बम' के नाम से कुख्यात है। उसे पकड़ने के लिए पूरे देश में रेड अलर्ट जारी किया गया है। 

प्रेसनोट

मिली जानकारी के अनुसार पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश और अपर पुलिस महानिदेश कानून और व्यवस्था के निदेशानुसार पुलिस महानिरीक्षक, एसटीएफ चीफ अमिताभ यश की टीम सहत कई टीमों ने कार्यवाही करते हुए जनपद सन्त कबीर नगर, बस्ती, कानपुर, लखनऊ से समन्वय स्थापित किया गया है। जलीस के नेपाल भागने की संभावना को ध्यान में देखते हुए नेपाल की सीमा से सटे हुए उत्तर प्रदेश के जनपदीय पुलिस अधिकारी और एसएसबी के वरिष्ठ अधिकारियों से भी समन्वय करते हुए सूचना का आदजान-पआदान किया है। 

निर्देशानुसार एसटीएफ मुख्यालय लखनऊ स्थिट टीम के पुलिस को सूत्रों द्वारा फरार डॉ. जलिस अंसारी के कानपुर में होने की सूचना मिली। जिसके बाद कानपुर से अभियुक्त को 17 जनवरी को दोपहर 1 बजे के करीब गिरफ्तार किया गया। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार