फतेहपुर: पुलिस की क्षत्र छाया में पल रहे दबंग, गरीबों की कोई सुनवाई नही

डीएन संवाददाता

फतेहपुर में पुलिस की मनमानी से आम महिलाएं, गरीब व पीड़ित परेशान हैं। पिटाई हो रही है, पीड़ित लगातार थाने के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन मुकामी पुलिस एफआईआर तक नही दर्ज कर रही है।


फतेहपुर: योगी सरकार कानून-व्यवस्था सुधारने के लिए रोज नए-नए वायदे कर रही है और यूपी में कानून के राज की बात कह रही है लेकिन पुलिस योगी सरकार के इन सभी बातों से परे नजर आ रही है। योगी सरकार में कानून राज नहीं बल्कि कानून के रक्षक की गुंडागर्दी जरूर देखने को मिल रही है। ऐसा ही एक मामला फतेहपुर का है जहां पुलिस, पीड़ित महिला की फरियाद को नजरअंदाज कर रही है और एफआईआर दर्ज करने में आनाकानी कर रही है।

किशनपुर थाना क्षेत्र में महिला के साथ हुई मारपीट की शिकायत को पुलिस दर्ज करने से मना कर रही है। एक दबंग ने गांव की महिला की लाठी-डंडों से पिटाई की। इसके कारण महिला बुरी तरह घायल हो गई। महिला पर हमला 11 जून को हुआ लेकिन अब तक पुलिस ने महिला की एफआईआर तक दर्ज नहीं की।

पीड़ित महिला के मुताबिक बब्बन और उसकी पत्नी सोनिया ने महिला और उसकी बेटियों की पिटाई की, लगभग तीन दिन से महिला और उसका परिवार किशनपुर थाने के चक्कर लगा रहा है लेकिन वहां उनकी कोई फरियाद नहीं सुनी जा रही है। एसपी कार्यालय पर जाने पर भी उन्हें निराशा मिली। बताया जा रहा है बब्बन पहले से ही धारा 376 का मुज़रिम है और उसे 7 साल की सजा भी मिल चुकी है। परिजनों का कहना है कि संबंधित थानेदार जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए गाली गलौज करते हैं। ऐसे मे लग नही रहा कि इस पीड़ित महिला की कोई सुनेगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार