पुराने नोट जमा करने के 1.5 लाख मामलों की जांच कर रहा है आयकर विभाग

डीएन ब्यूरो

एक तरफ नोटबंदी को लेकर विपक्ष मोदी सरकार को घेरता रहता है तो दूसरी ओर इनकम टैक्स विभाग नोटबंदी के बाद 1.5 लाख मामलों की जांच कर रहा है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में जानिए आयकर विभाग क्यों कर रहा है मामलों की जांच..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी के कदम पर विपक्ष हमेशा से निशाना साधता आ रहा है। वहीं इनकम टैक्स विभाग नोटबंदी के बाद 1.5 लाख मामलों की जांच कर रहा है। इन 1.5 लाख मामलों में बड़ी संख्या में 500 और 1000 के पुराने नोट जमा किए गए लेकिन यह नोट कहां से आए यह कोई नहीं जानता। बैंको में जमा किए गए नोटो की कमाई का क्या स्त्रोत है यह साफ नहीं हो पाया है।

यह भी पढ़ें: DMRC ने लिया बड़ा फैसला, मेट्रो में यात्रियों को अब नहीं करना पड़ेगा भीड़ का सामना

आयकर विभाग


जिन लोगों ने 500 और1000 के बहुत नोट जमा कराए हैं उन्होंने नोटबंदी से पहले अपनी ऐसी किसी आमदनी के बारे में नहीं बताया था। इस मामले में साल 2017-18 से 2018-19 के दौरान गुजरात के लोग सबसे आगे हैं।

पुराने 500 और 1000 के नोट

यह भी पढ़ें: अनिल अंबानी की आरकॉम ने दी दिवालिया होने की अर्जी, शेयर्स पर भी पड़ा असर 

आयकर विभाग के पास जांच के लिए ऐसे 1,34,574 मामले चुने गए हैं। बता दें कि इनकम टैक्स एक्ट 1961 की धारा 142 (1) के तहत 2017-18 में 2,99,937 जमाकर्ताओं को नोटिस भेजा गया था। नोटबंदी के समय पर जिन लोगों ने बड़ी रकम बैंक में जमा की थी और इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरा था, उन्ही को यह नोटिस भेजा गया था।   

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?

हां
80.95%
नहीं
19.05%