लखनऊ: अधिवक्ता के हमलावरों की गिरफ्तारी न होने पर भड़के वकील, पुलिस से तीखी झड़प

डीएन संवाददाता

अधिवक्ता अभिषेक सिंह पर हुए प्राणघातक हमले को आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से नाराज अधिवक्ता सोमवार को मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने निकले। पुलिस ने प्रदर्शनकारी वकीलों को हजरतगंज चौराहे पर ही बैरिकेडिंग लगाकर रोक दिया, जिससे पुलिस और वकीलों में झड़प हो गयी। पूरी खबर..

पुलिस और वकीलों के बीच झड़प
पुलिस और वकीलों के बीच झड़प

लखनऊ: लगभग एक पखवाड़ा बीत जाने के बाद भी अधिवक्ता अभिषेक सिंह के हमलावरों को गिरफ्तार न किये जाने से राजधानी के वकीलों में व्यापक रोष है। हमलावरों की गिरफ्तारी न होने से नाराज अधिवक्ताओं ने सोमवार को मुख्यमंत्री आवास के घेराव की कोशिश की। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारी वकीलों को रोकने की कोशिश की जिस कारण वकीलों और पुलिस के बीच जमकर झड़प हो गया। 

 

 

गौरतलब है कि बीते 16 जुलाई को अधिवक्ता अभिषेक सिंह पर कुछ लोगों ने प्राणघातक हमला कर दिया था, जिसमें वे बाल-बाल बच गए। इस मामले में अधिवक्ताओं ने कैसरबाग थाने में FIR भी दर्ज कराई थी। अधिवक्ताओं का आरोप है कि 2 हफ्ते से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी कैसरबाग पुलिस अब तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। इससे नाराज अधिवक्ता सोमवार को सड़कों पर उतर आये। 

 

 

आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर बड़ी तादाद में अधिवक्ता जब मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने जा रहे थे तो हजरतगंज चौराहे पर पुलिस ने उन्हें बैरिकेडिंग लगाकर रोक लिया। जिससे अधिवक्ताओं और पुलिस के बीच जमकर तीखी नोकझोंक हुई। इस दौरान अधिवक्ताओं ने पुलिस प्रशासन और सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी की और आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी किए जाने का पुलिस को अल्टीमेटम दिया।

 

 

अधिवक्ताओं ने मामले में कैसरबाग थाना पुलिस पर लापरवाही का आरोप भी लगाया। वहीं मामले में बातचीत करते हुए एसीएम प्रथम प्रफुल्ल कुमार ने बताया कि 16 जुलाई को अधिवक्ता अभिषेक सिंह पर कुछ लोगों ने हमला किया था। जिसको लेकर उनकी ओर से कैसरबाग थाने में FIR दर्ज कराई गई है। पुलिस जल्द दोषियों को गिरफ्तार कर जेल भेजेगी।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार