जानिए यूपी के नए सीएम के बारे में, अजय सिंह से कैसे बने योगी आदित्यनाथ..

डीएन संवाददाता

यूपी विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद सारी संभावनाओं को अचानक पलटते हुए बीजेपी ने सीएम पद के लिए योगी आदित्यनाथ का नाम फाइनल कर दिया है। शनिवार को विधायक दल की बैठक में औपचारिक तौर पर योगी आदित्यनाथ का नाम रख उन्हें नेता चुन लिया गया।

योगी आदित्यनाथ
योगी आदित्यनाथ

लखनऊ: योगी आदित्यनाथ यूपी के नए मुख्यमंत्री बने हैं। विधायक दल की मीटिंग में आदित्यनाथ योगी के नाम पर यूपी के सीएम का मुहर लगा है। रविवार को शपथ ग्रहण समारोह होगा। बता दें कि योगी आदित्यनाथ रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा डिप्टी सीएम बनेंगे।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ का बजा डंका, योगी आदित्यनाथ ही बने सीएम, एक सप्ताह पहले ही डाइनामाइट न्यूज़ ने कर दिया था ऐलान

योगी आदित्यनाथ का असली नाम अजय सिंह है। अजय सिंह का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के एक छोटे से गांव में हुआ था। उन्होंने गढ़वाल विश्विद्यालय से गणित में बीएससी किया। वो गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महंत हैं। आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महंत अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी हैं। वो हिंदू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं, जो कि हिन्दू युवाओं का सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह है।

यह भी पढ़ें: यूपी सीएम की रेस में सबसे आगे हैं योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ 1998 से लगातार गोरखपुर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। योगी यूपी बीजेपी के बड़े चेहरे माने जाते थे। 2014 में पांचवी बार योगी सांसद बने।

योगी ऐसे राजनीति में आए
उनके गुरु अवैद्यनाथ ने 1998 में राजनीति से संन्यास लिया और योगी आदित्यनाथ को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया। यहीं से योगी आदित्यनाथ की राजनीतिक पारी शुरू हुई। 1998 में गोरखपुर से 12वीं लोकसभा का चुनाव जीतकर योगी आदित्यनाथ संसद पहुंचे तो वह सबसे कम उम्र के सांसद थे, वो 26 साल की उम्र में पहली बार सांसद बने।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ का सर्वे.. जानिये.. जनता किसे देखना चाहती है यूपी के सीएम पद पर

योगी आदित्यनाथ ने हिंदू युवा वाहिनी का गठन किया और धर्म परिवर्तन के खिलाफ मुहिम छेड़ दी। कट्टर हिंदुत्व की राह पर चलते हुए उन्होंने कई बार विवादित बयान दिए। योगी विवादों में बने रहे, लेकिन उनकी ताकत लगातार बढ़ती गई. 2007 में गोरखपुर में दंगे हुए तो योगी आदित्यनाथ को मुख्य आरोपी बनाया गया, गिरफ्तारी हुई और इस पर कोहराम भी मचा।








संबंधित समाचार