जीएसटी से बढेगा लंगर का खर्चा, सिखों ने हाथों में रोटी लेकर किया प्रदर्शन

डीएन संवाददाता

कानपुर में सिख समुदाय के लोगों ने जीएसटी के विरोध में प्रदर्शन किया। अमृतसर में होने वाले लंगर के लिए चिंता जताते हुए जीएसटी का विरोध किया।

प्रदर्शन करते सिख समुदाय के लोग
प्रदर्शन करते सिख समुदाय के लोग

कानपुर: जीएसटी लागू होने के बाद भी प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। जीएसटी के विरोध में आज सिख समुदाय के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। गुमटी गुरूद्वारे के बाहर सिख समुदाय के लोगों ने अनोखे अंदाज में प्रदर्शन किया। सिख समुदाय के लोगों ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में होने वाले लंगर को लेकर प्रदर्शन किया। सभी प्रदर्शनकारियों ने गुरुद्वारे के बाहर हाथों में रोटी लेकर प्रदर्शन किया और सरकार से मांग करते हुए कहा कि सरकार लंगर में लगने वाले मटेरियल जैसे आटा, दाल, चावल आदि में जीएसटी न लगाए।

यह भी पढ़ें: पी. चिदंबरम: GST की अधिकतम दर 18 फीसदी होनी चाहिए

प्रदर्शन के दौरान सिख नेता हरप्रीत सिंह ने बताया की सरकार द्वारा जीएसटी एक जुलाई से लागू कर  दिया गया है जिसके बाद अब जीएसटी का असर अमृतसर में होने वाले लंगर में दिखाई देने लगा है। इस दौरान लंगर में दस से पंद्रह करोड़ का अतिरिक्त खर्चा बढ़ेगा जिससे लंगर में काफी दिक्कते आ सकती है। हमारी सरकार से मांग है कि अमृतसर में होने वाले लंगर में लगने वाले रॉ मटेरियल से जीएसटी हटाई जाये। गुरुवार को सिख लोगों ने गुरुद्वारे के बाहर हाथों में रोटी लेकर और हाथ जोड़ कर प्रदर्शन किया है और सरकार से मांग की है कि इस रोटी से अब जीएसटी को हटाया जाए।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार