आर्थिक संकट के कारण बंद होने जा रही है जेट एयरवेज, मैनेजमेंट बोर्ड ने दिया प्रस्‍ताव

डीएन ब्यूरो

आर्थिक संकट के कारण जेट एयरवेज अब केवल महज सात जहाज ही उड़ा पा रही है। क्‍योंकि तेल और अन्‍य खर्चों को उठाने की उसकी सामर्थ्‍य नहीं है। बोर्ड मीटिंग की बैठक में कहा गया है कि जेट अपने ग्राहकों को ठगना नहीं चाहता है। साथ ही यह भ्रम भी नहीं रखना चाहता है कि कंपनी अब भी संचालन में है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

मुंबई: किंगफिशर एयर लाइन की ही तरह जेट एयरवेज भी बंद होने की कगार पर पहुंच गई है। सूत्रों के हवाले से प्राप्‍त जानकारी के अनुसार मंगलवार को जेट एयरवेज मैनेजमेंट ने अपने बोर्ड के समक्ष कंपनी का संचालन पूरी तरह से बंदर करने का प्रस्‍ताव रखा है। क्‍योंकि कंपनी को कर्ज देने वाले बैंकों की ओर से आर्थिक सहयोग मिलना अब लगभग नामुमकिन होता दिख रहा है। 

जेट एयरवेज के 1100 पायलटों ने लिया फैसला, 15 अप्रैल से नहीं उड़ाएंगे विमान

वर्तमान में आर्थिक तंगी से जूझ रही जेट एयरवेज ने अब केवल सात विमान ही उड़ाने का फैसला लिया है। कंपनी रोजाना के हिसाब से इन विमानों को उड़ाने का तेल खर्च भी नहीं वहन कर पा रही है। 

सैलरी नहीं मिलने से परेशान 1000 पायलट एक अप्रैल से नहीं भरेंगे उड़ान

इन्‍हीं हालातों को देखते हुए मंगलवार को बोर्ड मीटिंग में यह प्रस्‍ताव रखा गया कि ग्राहकों को किसी तरह से ठगे बिना कंपनी के चलने का भ्रम खत्‍म कर देना चाहिए। क्‍योंकि इन हालातों में सामान्‍य तरीके से उड़ानों की बात करना पूरी तरह से मजाक है। 

जेट एयरवेज की रद्द उड़ानों और उसकी अन्य स्थितियों पर डीजीसीए की नजर

वहीं आज एसबीआई कैप्स को उचित बोली लगाने वाले का चयन करना है। इसमें एतिहाद, टीपीजी और इंडिगो कैपटिल आदि एक्सप्रेसन ऑफ इंट्रेस्ट जमा करने वालों में शामिल हैं। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …