इटावा लायन सफारी पार्क में जेनिफर पर शेरों का कुनबा बढ़ाने का भरोसा

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के इटावा में लायन सफारी पार्क प्रशासन को भरोसा है कि पिछले दिनों गुजरात से लायी गयी जेसिका की बेटी जेनिफर पर शेरों का कुनबा बढ़ायेगी।

इटावा लायन सफारी पार्क
इटावा लायन सफारी पार्क

इटावा: उत्तर प्रदेश के इटावा में लायन सफारी पार्क प्रशासन को भरोसा है कि पिछले दिनों गुजरात से लायी गयी जेसिका की बेटी जेनिफर पर शेरों का कुनबा बढ़ायेगी।

यह भी पढ़ें: Mauni Amavasya 2020- अगर रहती है पैसे की किल्लत या जगानी है किस्मत, तो मौनी अमावस्या पर करें ये काम

इटावा सफारी पार्क के निदेशक वी.के.सिंह ने गुरूवार को यहाॅ बताया कि अभी तक सफारी में जो छह शावक हैं उन सभी को जेसिका ने जन्म दिया है। जेसिका लायन सफारी के लिए सबसे ज्यादा भाग्यशाली साबित हुई है। अब सफारी प्रशासन की पूरी उम्मीदें जेसिका की बेटी जेनिफर पर टिकीं हैं। इसे पिछले दिनों गुजरात से सफारी में लाया गया है और अब यह उम्मीद है कि जेनिफर शेरों का कुनबा बढाएगी। इसके लिए प्रयास भी शुरू कर दिए गए हैं।

उन्होने बताया कि सफारी में जेसिका ने पहले शिम्बा सुल्तान, फिर बाहुबली और फिर 26 जून को चार शावकों को जन्म दिया था। इनमें से एक शावक की मौत हो गई थी। फिलहाल सफारी में जो छह शावक हैं वे सभी जेसिका के ही हैं। इनमें से गत जून में जन्म लेने वाले तीनों शावक अपनी मां के साथ हैं जबकि अन्य शावकों को अलग अलग कर दिया गया है। पिछले दिनों सफारी में गुजरात से सात शेरों को लाया गया था। इनमें जेसिका की बेटी जेनिफर भी शामिल है।

यह भी पढ़ें: टाटा मोटर्स ने लांच की नई हैचबैक कार, जानिए क्या है इसकी शुरूआती कीमत

जेनिफर को जेसिका ने तब जन्म दिया था जब वह गुजरात में थी। जेनिफर के आने के बाद सफारी प्रशासन की पूरी उम्मीदें इसी शेरनी पर केंद्रित हो गईं हैं। उन्हें लगता है कि जेनिफर ही अब शेरों का कुनबा बढाएगी। सफारी को खोला जा सके इसके लिए भी सफारी में शावकों की संख्या में बढोतरी होना जरूरी है। सफारी प्रशासन भी यह प्रयास कर रहा है। जेनिफर की शेर मनन से मीटिंग भी कराई जा रही है ताकि कुनबा बढ़ाया जा सके। हालांकि इससे पहले जुलाई 2015 में सफारी की शेरनी हीर व ग्रीष्मा ने पांच शावकों को जन्म दिया था लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। एक माह के अन्दर इन पांचों शावकों की मौत हो गई थी। इसके बाद शेरनी जेसिका ने शावकों को जन्म दिया और फिलहाल जेसिका के छह शावकों से सफारी गुलजार है।

तीन सफारियों के साथ ईको पर्यटन केन्द्र को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। अब इस बात के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं कि जल्द ही लायन सफारी को भी पर्यटकों के लिए खोला जा सके। सफारी में जिस तरह बढी संख्या में पर्यटक आ रहे हैं वह उत्साह बढाने वाला है। लायन सफारी को मांगी नियमों में छूट बिना शेर देखे सफारी आने वाले पर्यटक मायूस हैं। इसके लिए सफारी प्रशासन लायन सफारी को जल्द खोलने के प्रयास में हैं पर सीजेडए की कड़ी शर्तो का रोडा लगा है। पिछले दिनों हुई सफारी की उच्च स्तरीय बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार अब सफारी प्रशासन ने लॉयन सफारी खोलने की शर्तो में ढील देने की मांग सीजेडए से की है। अब यदि छूट मिल जाती है तो फिर पर्यटकों को शेर देखने का सपना जल्द पूरा हो जाएगा। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार