यूपी में कब रुकेगी जहरीली शराब से होने वाली मौतें, आजमगढ़ में 14 की मौत, प्रशासन दामन बचाने में जुटा

admin

आये दिन उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब से मौतें हो रही है लेकिन शासन-प्रशासन सिर्फ अपने दामन बचाने में हुआ है। कभी एटा को कभी आजमगढ़ तो कभी कोई औऱ जिला.. साल-दर-साल, महीने-दर-महीने मौतें हो रही हैं लेकिन कोई स्थायी हल नही आखिर क्यों..

फ़ाइल फोटो
फ़ाइल फोटो

आजमगढ़: जिले के रौनापार थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अब तक एक दर्जन से अधिक लोगों का जीवन इस जहरीली शराब की भेंट चढ़ चुका है लेकिन पुलिस है कि अपने दामन पर लगे इस दाग को कम करने के लिए मृतकों की संख्या कम कर बताने में जुटी हुई है। इस शराब को पीने  के कारण अब तक मरने वालों की संख्या 14 हो गई है और आधे दर्जन से अधिक लोग अस्पताल में जीवन और मौत के बीच जूझ रहे हैं।

अवैध शराब पीने के कारण रौनापार के केवताहिया में आज तड़के एक अन्य व्यक्ति 40 वर्षीय बजरंगी ने भी घर पर  दम तोड़ दिया। इसके अलावा जीयनपुर थाना क्षेत्र के अजमगढ़ में कल देर रात जहरीली शराब के कहर से तीन और लोगो की मौत हो गई। इन क्षेत्रों में जहरीली शराब पीने के कारण मरने वालों की संख्या जहाँ बढ़ती जा रही है वहीं पुलिस मामले को दबाने के लिए मृतकों की संख्या कम करने में जुटी है।

रौनापार थाना क्षेत्र के केवतहिया गांव में अवैध शराब पीने से मौत का सिलसिला परसों शाम शुरू हुआ था। इसके प्रभाव से तत्काल छह लोगों की मौत हो गयी थी जो आज सुबह तक बढकर 14 तक हो गयी है।

डिप्टी सीएस ने दिए जांच के आदेश

सूबे के उपमुख्यमंत्री कैशव प्रसाद मौर मौर्य ने अवैध व जहरीली शराब से मरने वाले लोगों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने मामले की जांच की आदेश भी दे दिए है। उन्होंने कहा कि मामले में दोषियों को हरगिज नहीं बख्शा जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की जायेगी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …