Maharajganj: स्कूली बच्चों को मिड डे मील में रोजाना परोसी जा रही दाल और आलू की सब्जी

डीएन ब्यूरो

प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालय तेदुअहिया में मिड डे मील योजना के तहत ग्रामीण बच्चे खा रहे हैं आलु की सब्जी। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..


महराजगंज: मध्यान्ह भोजन योजना भारत सरकार और राज्य सरकार के समवेत प्रयासो से संचालित है। महराजगंज जिले के पनियरा ब्लाक के ग्राम सभा स्थित स्कूल में भोजन की गुणवत्ता के सभी मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही है। जिसे देखकर आप भी सहज अंदाजा लगा सकते हैं कि इस विद्यालय में किस तरह से मासूम बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा हैं।

यह भी पढ़ें: गोरखपुर के कमिश्नर ने भ्रष्टाचारी आईएएस अमरनाथ उपाध्याय को बचाने का खेला नया दांव, अज्ञात में एफआईआर दर्ज करा झोंकना चाहते हैं मुख्यमंत्री की आंखों में धूल 

स्कूल में बच्चों के भोजन के लिए 6 दिन का मीनू चार्ट बनाकर चस्पा कर दिया गया है। लेकिन सच्चाई यह है कि हर दिन बच्चों को आलू और दाल की तहरी परोसी जा रही है। जिसमें बच्चों के खाने के लिए नाम मात्र की दाल,आलू और अन्य सामग्री देखी गई। 

रसोईया से बाद करने पर पता चला की समान तोल कर नही मिलता। जो समान उन्हें  मिलता है उसे ही बनाकर काम चलाती हैं। 110 बच्चों के लिए पुडिया पुडिया में समान आता हैं। प्रधानाध्यापक नंन्द किशोर निराला ने बताया की यहां भोजन रसोई गैस पर नहीं चूल्हे पर बनता हैं।

यह भी पढ़ें: Uttar Pradesh: दो पक्षों में हुई मारपीट में युवक की मौत, परिजनों ने किया रास्ता जाम 

रसोईया

इतना ही नहीं मध्यान भोजन के लिए प्रतिदिन जलाने के लिए लकड़ी आती है जिससे बच्चों का भोजन पकाया जाता है। हालांकि सरकार के द्वारा सभी विद्यालयों में गैस सिलेंडर आवंटित किया गया है इसके बावजूद विद्यालय से गैस सिलेंडर गायब हैं इतना ही नहीं इस विद्यालय में बच्चों को मेनू के अनुसार फल और दूध शायद ही कभी मिलता हैं यहां मेनू शायद कागजों में ही चल रहा है।

राजस्थान: चाय पीते ही बेहोश होने लगे एक के बाद एक 14 लोग

इस संबंध में विद्यालय की प्रधानाध्यापक का भी साफ कहना है कि बच्चों को दूध और फल रोज नहीं मिल पाता है जब कभी आ जाता हैं तब ही बटता हैं। सरकार के द्वारा परिषदीय विद्यालयों में सर्व शिक्षा अभियान के नाम पर खर्च हो रहे धनराशि भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ती नजर आ रही है वहीं सरकार की मंशा पर पानी फिरता जा रहा है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार