बलरामपुर: अनिल हत्याकांड का खुलासा, झगड़े में गला दबाने से हुई मौत

डीएन संवाददाता

बलरामपुर में दो भाईयों के बीच हाथापाई में एक की मौत हो गई है। इससे भयभीत भाई ने अपनी इस गलती को छुपाने के लिये इस हादसे को आत्महत्या का रंग देने की कोशिश की।

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी

बलरामपुर: ललिया थाना अंतर्गत ग्राम उपतहवा में हुये हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने कहा कि मृतक की मौत भाई से नशे की हालत में हुई झगड़े के दौरान हुई थी। मौत से घबराये आरोपियों ने इसे आत्महत्या के रूप देने की कोशिश की। आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

यह भी पढ़ें: प्रद्युम्न मर्डर: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र-हरियाणा सरकार से मांगा जवाब

डाइनामाइट न्यूज़ के संवाददाता के मुताबिक पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार ने एक महीने पहले हुये हत्याकांड का खुलासा करते हुये बताया कि अनिल कुमार का शव उसके घर के सामने लगे टेलीफोन टावर से लटकता मिला था। पुलिस तब से मामले की जांच कर रही थी। मृतक के परिजनों की तहरीर पर गांव के बुज्जे मौर्य व लहेड़ू वर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। इसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई थी। इस मामले में पुलिस ने मृतक के भाई संजीव तिवारी और चचेरे भाई ऋषि कुमार तिवारी को गिरफ्तार किया।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: चंद्रशेखर हत्याकांड का खुलासा न होने के विरोध में प्रदर्शन

क्या था मामला

28 जुलाई को अनिल पड़ोस में वीडियो देखने गया था। देर रात घर न लौटने पर भाई उसे ढूंढने निकला। अनिल नशे की हालत में था, जहां झगड़े के दौरान गला दबने के कारण अनिल की मौत हो गई। उसके बाद संजीव ने अपने चचेरे भाई के साथ इसे आत्महत्या साबित करने के लिये अनिल के शव को टावर से लटकाया दिया था।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार