यूपी: पेड़ की प‍त्तियों में बैठकर पूजा करने वाले बाबा को देखने उमड़ रही भीड़, पुलिस की मुसीबत

डीएन ब्यूरो

बहराइच में एक अजीबोगरीब कारनामे ने पुलिस को परेशान कर रखा है। यहां शाहाबाद से आए एक बाबा पेड़ पर चढ़कर पूजा पाठ करते हैं जिन्‍हें देखने सैकड़ों लोग जमा हो जाते हैं। भीड़ को देखकर किसी अनहोनी से डरी पुलिस परेशान है। डाइनामाइट न्‍यूज़ पर पढ़ें पूरी खबर..

श्‍याम पांडेय उर्फ बं‍दरिया बाबा
श्‍याम पांडेय उर्फ बं‍दरिया बाबा

बहराइच: जिले में कानून-व्‍यवस्‍था को सुधारने में लगी पुलिस के लिए एक नई मुसीबत सामने आ गई है। जिले के मिहीपुरवा सुजौली थाना के पास एक पीपल पेड़ के सबसे ऊपर बैठकर एक बाबा अपना पूजा पाठ करते हैं। उनके इस करिश्‍मे को देखने के लिए आसपास से काफी लोग एकत्रित हो जाते हैं। जिससे कानून व्‍यवस्‍था का संकट हो जाता है।

यह भी पढ़ें: चार नामी आईएएस टॉपर्स देंगे नौजवानों को आईएएस की परीक्षा में सफल होने का मूलमंत्र

श्‍याम पांडेय उर्फ बंदरिया बाबा

उनके बारे में लोगों ने बताया कि पीलीभीत के शाहाबाद तहसील के पिहानी के रहने वाले हैं। उनका नाम श्‍याम पांडेय हैं लेकिन आसपास के लोग उन्‍हें बंदरिया बाबा या पत्‍ती बाबा के नाम से जाना जाता है। चार माह पहले भी वह बहराइच आए थे उस दौरान पुलिस ने उन्‍हें भगा दिया था। 

यह भी पढ़ें: ‘डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव 2019’: आईएएस परीक्षा से जुड़ा सबसे बड़ा महाकुंभ

पेड़ की पत्तियों पर बैठे बंदरिया बाबा

उस दौरान बंदरिया बाबा ने एक पेड़ पर पूजा आरती की थी। जिसके बाद उन्‍हें देखने वालों की भीड़ लग गई थी। बंदरिया बाबा का कहना है कि उन पर हनुमान जी का आर्शीवाद है जिससे मैं पेड़ पर चढ़ सकता हूं। अब उन्‍हें देखने वालों की हजारों की भीड़ पहुंच रही है।

सुरक्षा व्‍यवस्‍था के लिए पुलिस टीम तैनात

बहराइच पुलिस ने कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पुलिस टीमों की तैनाती की है। गौरतलब है कि बीते बुधवार को उन्‍हें देखने पहुचे लोगों में अफरातफरी मच गई थी। जिसके बाद देर रात वह नीचे उतर आए थे।

रात के समय पेड़ पर ही विश्राम करते बंदरिया बाबा

प्रभु हनुमान के हैं परम भक्‍त

बंदरिया बाबा की उम्र 65 वर्ष से अधिक है। वह साधु की वेशभूषा में ही रहते हैं। लोगों ने उनकी पेड़ की पत्तियों पर खड़े होने और पूजा करने की चमत्‍कारिक शक्तियों से प्रभावित होकर ही बंदरिया बाबा का नाम दिया है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार