जानिये... प्रियंका गांधी के कांग्रेस महासचिव बनाये जाने पर क्या बोली यूपी की जनता...

डीएन ब्यूरो

प्रियंका गांधी को कांग्रेस महासचिव बनाए जाने को लेकर डाइनामाइट न्यूज़ ने यूपी की राजधानी लखनऊ में जनता से बात कर यह जानने की कोशिश की कि प्रियंका गांधी के राजनीति में एंट्री से कांग्रेस को लोकसभा चुनाव 2019 में कितना फायदा होगा।


लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 में केंद्र में सत्तासीन पार्टी भाजपा को पटखनी देने के लिए जहां एक और समूचा विपक्ष लामबंद हो रहा है। वहीं सभी राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने तरीके से जनता को अपने पाले में लाने की जद्दोजहद करने में जुटी हैं। वहीं देश की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव 2019 के ठीक पहले जिस तरीके से प्रियंका गांधी को कांग्रेस पार्टी का महासचिव बनाने के साथ-साथ पूर्वी यूपी का प्रभार सौंपा है। इसे लेकर राजनीतिक विश्लेषकों ने अभी से कांग्रेस के इस फैसले के संभावित नफा-नुकसान का आंकलन करना शुरू कर दिया है।

वहीं जनता की ओर से भी प्रियंका गांधी के कांग्रेस महासचिव बनाए जाने को लेकर मोटे तौर पर एक मिली-जुली राय हमारी टीम को देखने को मिली। इसी के साथ पार्टी आलाकमान के फैसले को लेकर आम कांग्रेसियों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला।

 

कांग्रेस प्रवक्ता अंशु अवस्थी ने क्या कहा?

डाइनामाइट न्यूज़ ने जब कांग्रेस नेता और प्रवक्ता अंशु अवस्थी से बात कर उनकी राय जानने की कोशिश की तो उन्होंने कांग्रेस आलाकमान के इस फैसले को आम कांग्रेसियों का उत्साह बढ़ाने वाला कदम बताया। अंशु अवस्थी ने बताया कि यूपी में आज से लगभग 30 साल पहले राजधानी लखनऊ के विकास की जो नींव तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने रखी थी, उसके बाद आने वाली सभी सरकारों ने उसी के इर्द-गिर्द काम किया। इंदिरा नगर और गोमती नगर की नींव कांग्रेसी कार्यकाल में रखे जाने और विकास का खाका तैयार करने में कांग्रेस के योगदान को बताते हुए कांग्रेसी नेता अंशु अवस्थी ने कहा कि कांग्रेस ने यूपी को एक मॉडल के तौर पर विकसित करने के लिए काम शुरू किया था। लेकिन उसके बाद आई सरकारों ने केवल भाई भतीजावाद और जातिवाद को ही बढ़ाने का काम किया है।

प्रियंका गांधी को महासचिव बनाए जाने पर अंशु अवस्थी ने जताई खुशी

प्रियंका गांधी को कांग्रेस महासचिव बनाए जाने के फैसले पर अपनी खुशी जताते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि इससे आम महिलाओं और जनता के लोगों को कांग्रेस पार्टी की नीतियों से जुड़ने में मदद मिलेगी और निश्चित तौर पर लोकसभा चुनाव में प्रियंका गांधी के पार्टी में आने से पार्टी को फायदा होगा। 

गौरतलब है कि कांग्रेस आलाकमान ने लोकसभा चुनाव के ठीक पहले प्रियंका गांधी को कांग्रेस महासचिव के साथ-साथ पूर्वी यूपी का भी प्रभार सौंपा है। वहीं यूपी का वाराणसी संसदीय क्षेत्र जहां से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांसद हैं, वह इलाका भी पूर्वी यूपी में शामिल है। ऐसे में प्रियंका गांधी के आने से पूर्वी यूपी में कांग्रेस को कितना फायदा होगा यह तो 2019 के आने वाले चुनावी नतीजे ही बताएंगे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …