हिंसक वारदातों पर पीएमओ सख्त, गृहमंत्रालय ने सीएम खट्टर से मांगी रिपोर्ट

डीएन ब्यूरो

हरियाणा और पंजाब में हिंसक वारदातों के बाद पीएमओ और केंद्रीय गृह मंत्रालय भी चौकन्ना हो गया है। पीएमओ ने जहां इस घटना की रिपोर्ट मांगी है, वहीं केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री से बात कर स्थिति का जायजा लिया।

मनोहर लाल खट्टर, सीएम, हरियाणा
मनोहर लाल खट्टर, सीएम, हरियाणा

नई दिल्ली: डेरा सच्चा सौदा समर्थकों द्वारा पंचकूला समेत हरियाणा और पंजाब के कई शहरों में हिंसक वारदातें सामने आने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) और केंद्रीय गृह मंत्रालय भी चौकन्ना हो गया है। पीएमओ ने जहां इस घटना की रिपोर्ट मांगी है वहीं केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों से बात कर स्थिति का जायजा लिया और रिपोर्ट मांगी। हरियाणा के सीएम ने कानून को अपने हाथों में लेने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के आदेश दिये हैं।

यह भी पढ़ें: पंजाब के तीन शहरों में कर्फ्यू, दिल्ली-उत्तराखंड में हाई अलर्ट

समर्थकों का सामना करती पुलिस

सीएम ने बुलाई आपातकालीन बैठक

हिंसा की बढ़ती घटनाओं के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आपातकालीन बैठक बुलाई है, जिसमें हिंसा की बढ़ती वारदातों पर काबू पाने समेत कई मुद्दों पर चर्चा की गई। इस बैठक में खट्टर ने हिंसक वारदातों को अंजाम देने वाले लोगों की पहचान करने और उनके खिलाफ कठोर कानूनी कार्यवाही करने की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें: डेरा समर्थक हुये हिंसक, कई जगह तोड़फोड़ और आगजनी

पत्थरबाजी करते समर्थक

गृहमंत्री ने लिया स्थिति का जायजा

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हरियाणा के सीएम खट्टर से बात की और राज्य में हिंसा, आगजनी, पत्थरबाजी जैसी घटनाओं का जायजा लिया। हिंसा से निपटने के राज्य सरकार द्वारा किये गये उपायों की भी जानकारी ली गई।

यह भी पढ़ें: दिल्ली-एनसीआर में भी डेरा समर्थकों की गुंडागर्दी, ट्रेन-बसों में लगाई आग

आगजनी के बाद का दृश्य

सीएम ने शांति बनाये रखने की अपील की

हरियाणा के सीएम एमएल खट्टर ने आज दोपहर ही बाबा राम रहीम के कोर्ट पहुंचने से पहले उनके समर्थकों से शांति बनाये रखने और किसी भी रूप में कानून को अपने हाथ में ना लेने की उनसे अपील की थी। लेकिन अब जिस तरह से पंचकूला समेत हरियाणा और पंजाब के कुछ शहरों में हिंसा की घटनायें सामने आई हैं उससे साफ पता चलता है कि समर्थकों पर सीएम की इस अपील का कोई प्रभाव नहीं पड़ा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)