यूपी की जीत का जश्न मोदी ने दिल्ली में मनाया, 16 को होगा सीएम के नाम का ऐलान, वेंकैया और भूपेन्द्र बने पर्यवेक्षक

डीएन ब्यूरो

यूपी में जीत के बाद नरेंद्र मोदी ने 300 मीटर का रोड शो किया। पैदल चलकर वे बीजेपी हेडक्वार्टर रविवार शाम पहुंचे। यहां उन पर फूलों की बारिश की गई। 11 अशोका रोड पर बीजेपी कार्यकर्ताओं का भारी जमावड़ा लगा था। मोदी ने कहा, "बीजेपी की जीत से पॉलिटिकल पंडितों को हैरानी हो रही है। भाजपा ने संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद तय किया कि 16 मार्च को यूपी में नये सीएम के नाम पर से सस्पेंस समाप्त कर दिया जायेगा। भाजपा ने यूपी सीएम के चयन के लिए वेंकैया नायडू और भूपेन्द्र यादव को पर्यवेक्षक नियुक्त कि्या है।

यूपी की ऐतिहासिक जीत के बाद नई दिल्ली पार्टी कार्यालय में पीएम मोदी का माला पहनाकर किया गया स्वागत
यूपी की ऐतिहासिक जीत के बाद नई दिल्ली पार्टी कार्यालय में पीएम मोदी का माला पहनाकर किया गया स्वागत

नई दिल्ली: पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में और खासकर यूपी में मिली ऐतिहासिक सफलता पर पीएम नरेन्द्र मोदी ने बीजेपी मुख्यालय में रविवार शाम को कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। पीएम मोदी ने बीजेपी की इस जीत के लिए जनता को बधाई देते हुए कहा कि अब बीजेपी के लिए झुकने का समय आ गया है क्योंकि फल लगने के बाद पेड़ झुक जाते हैं। पीएम ने लोगों को भरोसा दिलाया कि ये सरकार उनकी भी है जिन्होंने ने बीजेपी को वोट नहीं दिया है। मोदी ने एक बार फिर दोहराया कि उनकी सरकार गलत इरादे से कोई काम नहीं करेगी। 

भाजपा ने यूपी सीएम के चयन के लिए वेंकैया नायडू और भूपेन्द्र यादव को पर्यवेक्षक बनाया है और भाजपा 16 मार्च को सीएम के नाम का ऐलान करेगी।

 

भाजपा र्कायालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते पीएम मोदी


पढ़िए मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें
1.भारी मतदान के बाद अकल्पनीय भारी जीत होने से पॉलिटिकल पंडितों को हैरानी होती है। देश में इमोशनल इश्यूज पर असर दिखाई दिया है लेकिन इसके अलावा विकास एक मुश्किल मुद्दा होता है।
2.नतीजे बताते हैं कि ये 65 फीसदी युवाओं, महिलाओं का न्यू इंडिया है। ऐसा न्यू इंडिया जो गरीबों में कुछ पाने की बजाय कुछ करने की इच्छा रखने वाला न्यू इंडिया।
3.ईश्वर ने हमें जितनी क्षमता दी है। उससे जनता की आशाओं को पूरा करने की कोशिश में कामयाब हो पाए हैं। पेड़-पौधे भी हमें सिखाते हैं कि फल लगने पर वह झुकने लगता है। बीजेपी पर विजय के फल लगे हैं तो हमारा झुकने और नम्र बनने का मौका देती है।
4. इस जीत के लिए अटल जी, आडवाणी जी जैसे नेताओं ने काफी तपस्या की। उनकी आशाओं के मुताबिक, हमें ज्यादा से ज्यादा जनता की सेवा करनी है।
5.गरीब को शिक्षा मिले तो वह ज्यादा करके दिखाएगा। मिडिल क्लास को टैक्स और आर्थिक बोझ झेलता है। उस पर यह कम होना चाहिए। वह चाहता है कि रुकावटें दूर हों। एक बार गरीबों को खुद का बोझ उठाने की ताकत आ गई तो मिडिल क्लास का बोझ खुद कम हो जाएगा।
6.हमारे पास पांच साल का वक्त है। अगर सवा सौ करोड़ लोग हर साल एक नया संकल्प लें तो देश पीछे नहीं रहेगा।
7.मैंने तीन बातें कहीं थीं। पहली- हम नए हैं, अनुभव कम था, कभी संसद के मेंबर नहीं रहे थे। कहा था कि हमसे गलती हो सकती है, लेकिन गलत इरादे से कोई काम नहीं करेंगे। दूसरी- हम परिश्रम की पराकाष्ठा करेंगे। तीसरा- जो भी करेंगे प्रमाणिकता के साथ करेंगे।
8.मुझे खुशी है कि एक ऐसा पीएम है जिससे पूछा जाता है कि इतना काम क्यों करते हो, इससे बड़ा सौभाग्य क्या हो सकता है।
9.यह सरकार जिन्होंने वोट दिया उनकी भी है और नहीं देने वालों की भी है। सरकार सबकी है।
10.ऐसे-ऐसे लोग जीतकर आए हैं, जिन्हें कोई नहीं जानता है। हो सकता है कि उनका अनुभव कम होगा, लेकिन भरोसा दिलाता हूं कि हमारे साथी आपकी आशाओं को पूरा करने में कमी नहीं होने देंगे।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार