जानें सुषमा स्वराज ने सरताज अजीज को क्यों लगाई लताड़?

डीएन संवाददाता

गंभीर टयूमर अमेलोब्लस्टोमा से ग्रस्त पाकिस्तान की फैजा तनवीर ने इलाज के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद मांगी थी। लेकिन अजीज इसमें रोड़ा बन रहे थे

सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री
सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री

नई दिल्ली: सुषमा स्वराज अब तक कई ऐसे उदाहरण पेश कर चुकी है जब उन्होंने देर-सबेर विदेशों में मुसीबत में फंसे हर व्यक्ति की मदद के लिए आगे हाथ बढ़ाया। अब नए मामले में नेक पहल करते हुए सुषमा ने न केवल मदद की पेशकश की बल्कि इस नेक काम में बाधा बन रहे पाकिस्तान के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज को जमकर खरी-खोटी सुनाई। इससे सुषमा ने मानवता का बेहतर उदाहरण देने के साथ भारत की बेहतर विदेश नीति का उदाहरण भी दुनिया के सामने प्रस्तुत किया।

यह भी पढ़ें: जानिए भारत लौटने के बाद उज्मा ने पाकिस्तान के बारे क्या कुछ कहा..

जाने क्या है मामला

पाकिस्तान की रहने वाली फैजा तनवीर टयूमर अमेलोब्लस्टोमा की बीमारी के इलाज के लिए भारत आना चाहती है। लेकिन मेडिकल वीजा के कारण वह अभी तक यहां नहीं आ सकीं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को भारत का रुख साफ करते हुए 9 ट्वीट कर मेडिकल वीजा के मुद्दे को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज को खरी-खोटी सुनाई।

सुषमा ने सोमवार सुबह 9 ट्वीट किए और लिखा कि भारत में इलाज के लिए वीजा का इंतजार कर रहे पाकिस्तानी नागरिकों के लिए मैं अपना दुख व्यक्त करती हूं, उम्मीद करती हूं कि सरताज अजीज को भी अपने देशवासियों के लिए कुछ दर्द हो रहा होगा। सुषमा ने लिखा कि हमें पाकिस्तानी नागरिकों के भारत आने से कोई दिक्कत नहीं है, बस हमें मेडिकल वीजा के लिए एक सरताज अजीज की चिट्ठी चाहिए।

यह भी पढ़ें: भारत ने कहा- 'जाधव को फांसी दी गई तो होंगे गंभीर परिणाम'

सुषमा ने लिखा कि मुझे समझ नहीं आता कि वे अपने ही नागरिकों को भारत के लिए मेडिकल वीजा दिलवाने में क्या दिक्कत है। सुषमा ने लिखा कि मैंने अजीज को खुद एक चिट्ठी लिखी थी लेकिन सरताज अजीज ने मेरी चिट्ठी का कोई जवाब नहीं दिया। लेकिन मैं विश्वास दिलाती हूं कि इलाज के लिए अगर सरताज अजीज की तरफ से हमें चिट्ठी मिलती है, तो भारत वीजा देने में देरी नहीं करेगा। बेहद गंभीर टयूमर अमेलोब्लस्टोमा से ग्रस्त फैजा तनवीर इलाज के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद मांगी थी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …