जम्मू-कश्मीर के DGP का बयान, गोली नहीं देखती कि सामने कौन है?

डीएन संवाददाता

जम्मू कश्मीर के डीजीपी एसपी वेद ने एनकाउंटर के दौरान युवाओं को घर से बाहर न निकलने की नसीहत दी है। उन्होंने कहा है कि तमाम कोशिशों के बाद भी हम मुठभेड़ में मारे जाने वाले नागरिकों की संख्या रोकने में सफल नहीं हो पा रहे हैं।

जम्मू कश्मीर के डीजीपी एसपी वेद
जम्मू कश्मीर के डीजीपी एसपी वेद

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने गुरुवार को सेना के एनकाउंटर के दौरान पत्थरबाजी करने वाले युवाओ से अपील की है वो ऐसा ना करें। उन्होंने कहा कि कश्मीर में पिछले दिनों ऐसा देखने को मिला है जब आतंकवादियो से एनकाउंटर के समय लोगों ने घटना वाले स्थान पर इकठ्ठा होकर पत्थरबाजी शुरू कर दी। अभी हाल ही में बडगाम के चाडूरा में इस तरह की घटना में तीन युवक मारे गए थे। मारे गए कश्मीरी युवाओं की घटना पर कहा कि गोली यह नहीं देखती है कि सामने कौन आ रहा है और किसे वो मारने जा रही है। 

यह भी पढ़ें: कश्मीर मुठभेड़ में युवक की मौत

विरोधी तत्व युवाओं को गुमराह कर रहे हैं
उन्होंने युवाओं से मुठभेड़ स्थलों पर नहीं आने की अपील की। उन्होंने कहा कि ‘घाटी में शांति के विरोधी तत्व अपने राजनीतिक हितों को साधने के लिए उन्हें गुमराह कर रहे हैं और उनका दुरपयोग कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में एक बार फिर सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़

भड़काने के लिए सोशल मीडिया का हो रहा दुरुपयोग
डीजीपी ने कहा कि दुश्मन तत्व युवाओं को भड़काने के लिए सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर रहे हैं। ताकि वे आतंकवादियों को मुक्त कराने में मदद करने के लिए सुरक्षा बलों पर पथराव करें।

 








संबंधित समाचार