फतेहपुर में बीस हजार का ईनामी खूनी गिरफ्तार..अपने ही भतीजे की हत्या का है आरोप..

डीएन ब्यूरो

आज सुबह थाना चांदपुर पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी। लंबे अरसे से फरार ईनामी खूनी को आखिरकार पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। डाइनामाइट न्यूज़ में पढ़ें पूरी खबर..

बीस हजार का ईनामी खूनी  रविंद्र सिंह पुलिस की गिरफ्त में
बीस हजार का ईनामी खूनी रविंद्र सिंह पुलिस की गिरफ्त में

फतेहपुर: जिले की थाना चांदपुर पुलिस को आज बड़ी सफलता हाथ लगी। पुलिस आखिरकार कई महीनों से फरार हत्या के आरोपी को गिरफ्तार करने में कामयाब रही। आरोपी पर अपने ही भतीजे की हत्या का आरोप है। आरोपी को पकड़ने के लिए फतेहपुर के पुलिस अधीक्षक राहुल राज के निर्देशन में एक टीम बनाई गई थी। उस पर पुलिस द्वारा बीस हजार रुपये के ईनाम की घोषणा भी की गई थी। आज सुबह 7:10 बजे पुलिस ने आरोपी को अमौली बस स्टॉप से धर दबोचा।

यह भी पढ़ें: फतेहपुर में पुलिस कांस्टेबल की परीक्षा के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

क्या है मामला?
बीते वर्ष 15 जुलाई को पुलिस को सूचना मिली थी कि ग्राम जाड़ा मोड़ के पास एक अधजला अज्ञात युवक का शव पड़ा हुआ है। पुलिस मौके पर पहुंची। सव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। इस मामले में छह लोगों को दोषी पाया गया। 


इन छह आरोपियों के नाम हैं- 1. सुनील यादव उर्फ सन्जू यादव पुत्र शिवराम सिंह निवासी मलखानपुर थाना रसूलाबाद जनपद कानपुर 2. दीपक ओमर पुत्र नरेश चंद्र  निवासी कस्बा अमौली थाना चांदपुर फतेहपुर 3. पुष्पा यादव पुत्री मोहित यादव पत्नी सुनील यादव निवासी ग्राम बाटुकापुरा, जिला आजमगढ़ जनपद कानपुर नगर 4. सुनील यादव पुत्र मोहित यादव निवासी ग्राम बाटुकापुरा छिटकहवा थाना रौंनापार जिला आजमगढ़ जनपद कानपुर 5. दीपक सचान उर्फ घनश्याम बाबा पुत्र रामबाबू निवासी ग्राम बम्हौरी थाना सजेती जनपद कानपुर 6. रविंद्र सिंह उर्फ अरविंद सिंह पुत्र तिलक सिंह निवासी ग्राम कुलहा बगहा थाना बीघापुर जनपद उन्नाव

इनमें से पहले पांच आरोपियों को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी थी जबकि छठा आरोपी रविंद्र सिंह घटना के खुलासे के बाद से ही बदस्तूर फरार रहते हुए आस-पास के जनपदों में छिपकर रह रहा था। लेकिन आखिरकार पुलिस ने उसे अमौली बस स्टॉप से धर दबोचा।

यह भी पढ़ें: फतेहपुर: पांच किलों गांजा के साथ दो आरोपी गिरफ्तार
पुलिस का कहना है कि उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। वही हत्या का मुख्य साजिशकर्ता था। पुलिस पूछताछ में उसने बताया कि अपने भतीजे आशुतोष कटियार की जमीन जायदाद और कानपुर के प्लॉट पर कब्जा करने के लिए उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर अपने भतीजे की हत्या की साजिश रची थी। और उसे मारने के बाद उसकी लाश को थाना चांदपुर क्षेत्र के जंगल में डालकर आग लगा दी थी। आरोपियों पर आशुतोष की मां ममता देवी और पत्नी स्वरा महेंद्र देवी की हत्या का भी आरोप है। पुलिस ने गिरफ्तार मुख्य आरोपी रवींद्र सिंह पर विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया है।     

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …