फतेहपुर: खजुहा ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ गिरा अविश्वास प्रस्ताव, दोनो पक्षों में मारपीट

डीएन ब्यूरो

खजुहा ब्लाक प्रमुख के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव कोरम के अभाव में खारिज हो गया। ब्लॉक क्षेत्र में कुल 89 क्षेत्र पंचायत सदस्यों में से कोरम पूरा करने के लिए विपक्ष को 45 सदस्य पेश करना था, लेकिन विपक्ष केवल 37 ही पेश कर पाया। इसके बाद करीब आधे घंटे तक दोनों पक्षों के समर्थकों के बीच मारपीट में कई लोगों को चोटें भी आई।

अविश्वास प्रस्ताव के दौरान मौके पर मौजूद पुलिस
अविश्वास प्रस्ताव के दौरान मौके पर मौजूद पुलिस

फतेहपुर: खजुहा ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव कोरम के अभाव में खारिज हो गया। ब्लॉक क्षेत्र में कुल 89 क्षेत्र पंचायत सदस्य जिसमें कोरम पूरा करने के लिए विपक्ष को 45 सदस्य पेश करना था लेकिन विपक्ष 37 ही पेश कर पाया। कोरम पूरा न होने पर मतदान नहीं हुआ। अविश्वास प्रस्ताव खारिज होने से सीमा सिंह ब्लॉक प्रमुख बनी रहेगी।

जिस समय विपक्ष अपने सदस्यों के साथ ब्लॉक मुख्यालय के गेट के पास पहुंचा तो उसी समय सदस्यों को अपने-अपने पाले में ले जाने को लेकर भिड़ंत हो गई। इसके बाद मारपीट तक की नौबत भी आ गई। करीब आधे घंटे तक दोनों पक्षों के समर्थकों के बीच मारपीट में कई लोगों को चोटें भी आई। काफी प्रयास के बाद पुलिस ने मामले पर काबू पाया।

वर्तमान समय में खजुवा ब्लॉक प्रमुख पद पर सीमा सिंह पत्नी श्रुतिक्षण सिंह (खेल्ला सिंह) का काबीज है। सीमा सिंह के खिलाफ विपक्ष के हर्षित सिंह अविश्वास प्रस्ताव लाना चाह रहे थे, जिसकी मांग उन्होंने जिलाधिकारी कुमार प्रशांत से की थी। जिलाधिकारी ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए उपजिलाधिकारी हरिहरराम से अविश्वास प्रस्ताव लाने और आवश्यक होने पर मतदान कराने की बात कही थी। इसी के चलते गुरुवार को खजुहा ब्लाक में वर्तमान ब्लाक प्रमुख सीमा सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव विपक्ष को लाना था। सुबह से ही गहमागहमी का माहौल था। उप जिलाधिकारी की मौजूदगी में एक बैठक हुई जिसमें 89 क्षेत्रपंचायत सदस्य में कुल 37 सदस्य ही बैठक में पहुंच पाए। इस प्रकार के अभाव में अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सका और मतदान नहीं हुआ।

इस संबंध में उपजिलाधिकारी हरिहर राम ने कहा कि लिखित में कुल 90 क्षेत्र पंचायत सदस्य के हैं, जिनमें एक सदस्य की मौत हो गई थी। इस समय वर्तमान में 89 क्षेत्र पंचायत सदस्य कोरम पूरा करने के लिए 45 क्षेत्र पंचायत सदस्यों की मौजूदगी आवश्यक थी, लेकिन विपक्ष में केवल 37 सदस्य बैठक में मौजूद रहे। कोरम के अभाव में अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सका और इसी कारण मतदान भी नहीं हुआ, और ब्लाक प्रमुख सीमा सिंह ही बनी रहेगी। इस घटना के बाद मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।
 













संबंधित समाचार