फतेहपुर: रेलवे के अवैध खनन के कारण एक किशोर की मौत

डीएन संवाददाता

यूपी के फतेहपुर में रेलवे के अवैध खनन के कारण एक गरीब किशोर की मौत हो गई। रमवा रेलवे स्टेशन के पास ही ग्राम समाज की जमीन पर हुए 25 फुट गहरे गड्ढे में पैर फिसलने से किशोर गिर गया और उसकी जान चली गई।

रेलवे के अवैध खनन के कारण एक किशोर की मौत
रेलवे के अवैध खनन के कारण एक किशोर की मौत

फतेहपुर: यूपी के फतेहपुर में  रेलवे के अवैध खनन के कारण एक गरीब किशोर की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि यह मामला फतेहपुर के थरियांव थाना के क्षेत्र के सहजादेपुर मजरे रमवा गाँव का है। जहां रेलवे ट्रैक का काम चल रहा है।

रेलवे के ठेकेदार और ग्राम प्रधान जयराज सिंह की सांठ गांठ से रेलवे ट्रैक के किनारे ग्राम समाज की सैकड़ों बीघे जमीन को खोद खोदकर रेलवे के काम मे प्रयोग किया गया है। जिसकी वजह से खेत गहरे तालाब का रूप ले चुके हैं। इस कार्य मे खनन विभाग की कार्य प्रणाली पर भी प्रश्न चिन्ह खड़ा हो रहा है क्योंकि एक निश्चित दायरे में ही खुदाई करने का आदेश खनन विभाग द्वारा दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: फ़तेहपुर के नाराज शिक्षामित्रों ने किया विधायक का घेराव

शुक्रवार को उदयराज अपने साथियों मोनू, सुशील, सुधीर, गुड्डु के साथ रमवा स्टेशन के पास घूमने के लिए गया था। रमवा रेलवे स्टेशन के पास ही ग्राम समाज की जमीन पर हुए 25 फुट गहरे गड्ढे में पैर फिसलने से वह गिर गया

उसके साथियों का कहना है कि जब उदयराज डूबने लगा तो उन्होंने उसे बचाने का प्रयास किया लेकिन गड्ढा गहरा होने की वजह से उसे बचा नही जा सका और उदयराज की उस गहरे गडढ़े में डूबकर मौत हो गई।

प्रशासन की स्थिलता के चलते 7 घण्टे बाद निकली लाश

स्थानीय पुलिस की घोर लापरवाही के चलते मृतक की बॉडी 7 से 8 घण्टे उसी तलाब नुमा गढ्ढे में पड़ी रही। एसओ थरियांव विपिन सिंह के पहुंचने के बाद हंसवा चौकी की पुलिस टीम हरकत में आई और स्थानीय ग्रामीणों की कड़ी मशक्कत के बाद शव को बाहर निकाला गया।

यह भी पढ़ें: फ़तेहपुर में भीषण सड़क हादसे में चार लोगों की मौत, चार गंभीर

ग्रामीणों ने शव रखकर किया घंटो हंगामा

शव निकलने के बाद ग्रामीणों ने स्थानीय प्रशासन, रेलवे के ठेकेदार और ग्राम प्रधान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। ग्रामीणों का आरोप था कि प्रधान ने मोटी रकम लेकर ग्राम समाज की जमीन की मिट्टी बगैर किसी मानक के बेची है, जिसकी जांच होनी चाहिए।

मौके पर पहुंचे सदर तहसीलदार और सीओ थरियांव  ने मामले की निष्पक्ष जांच का अश्वासन दिया और कहा कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी। इसके साथ ही पीड़ित परिवार को रेलवे प्रशासन से मुआवजा दिलाया जाएगा। मुआवजा का ऐलान करने के बाद पीड़ित के परिजन शांत हुए और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार