इस एक्टर ने भारत में ही नहीं विदेशों में भी बनाई थी खास पहचान

डीएन ब्यूरो

शेखर कपूर का नाम एक ऐसे फिल्म निर्देशक के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ बाॅलीवुड में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी खास पहचान बनायी है।

शेखर कपूर
शेखर कपूर

मुंबई: शेखर कपूर का नाम एक ऐसे फिल्म निर्देशक के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ बाॅलीवुड में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी खास पहचान बनायी है। पाकिस्तान के लाहौर में जन्मे शेखर कपूर, बॉलीवुड अभिनेता देवानंद के भांजे है। वह बचपन के दिनों से ही फिल्मों में काम करना चाहते थे। शेखर कपूर ने अपने करियर की शुरुआत बतौर अभिनेता वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म जान हाजिर से की। बतौर निर्देशक उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म मासूम से की। एरिक सहगल के उपन्यास पर आधारित मैन, वुमेन एंड चाइल्ड पर बनी इस फिल्म का स्क्रीनप्ले गुलजार ने तैयार किया था। इस फिल्म में नसीरुद्दीन शाह, शबानी आजमी, उर्मिला मातोंडकर और जुगल हंसराज ने मुख्य भूमिका निभायी थी। इस फिल्म का गीत ..लकड़ी की काठी काठी पर घोड़ा.. बच्चों के बीच आज भी लोकप्रिय है।

यह भी पढ़ें: ऐतिहासिक फिल्म ‘पृथ्वीराज’ की शूटिंग शूरू होने से पहले ही बनाया ये खास रिकॉर्ड, हो जाएंगे हैरान

वर्ष 1987 में शेखर कपूर बच्चों पर केन्द्रित एक और फिल्म मिस्टर इंडिया बनायी जो .इनविजबल मैन. के उपर आधारित थी। इस फिल्म में अनिल कपूर ने इनविजबल मैन की भूमिका निभायी। बोनी कपूर निर्मित इस फिल्म में अमरीश पुरी ने मोगैंबो की भूमिका निभायी जो दर्शकों को बेहद पसंद आया। मिस्टर इंडिया भी बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी।वर्ष 1989 में शेखर कपूर ने जोशीले और दुश्मनी जैसी फिल्मों का सह निर्देशन किया। वर्ष 1992 में शेखर कपूर विज्ञान पर आधारित फंतासी फिल्म टाइम मशीन का निर्देशन करने वाले थे। इस फिल्म के लिये शेखर कपूर ने आमिर खान.रवीना टंडन.नसीरुद्दीन शाह और रेखा का चयन किया गया था लेकिन फिल्म नहीं बन पायी।

यह भी पढ़ें: एक्शन थ्रिलर फिल्म में काम करते नजर आएंगे किंग खान 

वर्ष 1997 में शेखर कपूर ने दस्यु सुंदरी फुलन देवी पर आधारित बैंडिट क्वीन का निर्देशन किया। इस फिल्म में बैंडिट क्वीन की भूमिका सीमा विश्वास ने रूपहर्ले पर साकार की। बैंडिट क्वीन के जरिये शेखर कपूर ने न सिर्फ भारत में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी खास पहचान बनायी। इस फिल्म के लिये शेखर कपूर को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का फिल्म फेयर पुरस्कार भी दिया गया। बैंडिट क्वीन के बाद शेखर कपूर को हॉलीवुड फिल्म ऐलिजाबेथ के निर्देशन का अवसर मिला। यह फिल्म ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित की गयी। वर्ष 2007 में इस फिल्म के सीक्वल एलिजाबेथ द गोल्डन एज का भी शेखर कपूर ने निर्देशन किया। इन सबके बीच शेखर कपूर ने हॉलीवुड फिल्म द फोर फीदर्स.न्यूयार्क आइ लव यू और पैसेज का निर्देशन भी किया। (वार्ता) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार