ताजनगरी में अवैध कब्जा हटाने गए अफसरों पर बरसी भीड़, पथराव कर जताया विरोध

डीएन संवाददाता

आगरा में सरकारी जमीन से अवैध कब्जा हटाने पर लोगों ने विरोध जताया और अफसरों पर पथराव भी किया।

अफसरों पर पथराव करती भीड़
अफसरों पर पथराव करती भीड़

आगरा: अवैध कब्जा हटाने गए अफसरों को अपना काम करने से पहले गुस्साई भीड़ का सामना करना पड़ा। सरकारी जमीन पर लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया जिसे हटाने के लिए अफसरों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

मामला मधुनगर का है, जहां सरकारी जमीन से अवैध कब्जा हटाने गए प्रशासन और नगर निगम के अफसरों भीड़ से आमना-सामना करना पड़ा। गुस्साई भीड़ ने अफसरों को रोकने के लिए पथराव किया और लेखपाल से भी बदसलूकी की। पथराव होने के कारण इलाके में भगदड़ मच गई और कई लोग घायल हो गए।

मधुनगर स्थित फूलबाग में राजकीय आस्थान की 7000 वर्ग गज जमीन पर अवैध कब्जा है। गुरुवार को एसडीएम सदर रजनीश मिश्र, प्रभारी उप नगरायुक्त अरुण कुमार सहित अन्य अधिकारी मधुनगर पहुंचे। पहुंचते ही टीम ने एक बाड़े को ध्वस्त कर दिया।

इसके बाद जैसे ही सैन्यकर्मी मनोज चाहर के मकान की बाउंड्रीवाल गिरानी शुरू की। यह देख मनोज के परिवार की महिलाएं घर से बाहर निकल आईं और जेसीबी पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। इसके बाद मनोज के उकसाने पर वहां मौजूद लोगों ने अफसरों पर पथराव शुरू कर दिया। पुलिस ने पथराव करने वाली महिलाओं को हिरासत में ले लिया है।

लेखपाल पर लगा आरोप

अफसरों पर पथराव करने के बाद लोगों का गुस्सा लेखपाल पर भी उतरा। कुछ लोगों ने लेखपाल गोविंद नारायण शुक्ला से बदसलूकी की। साथ ही एक लाख रुपये लेकर जमीन आवंटन का आरोप भी लगाया।

पथराव से मची भगदड़

जब भीड़ ने अफसरों पर पथराव शुरू किया तो भगदड़ मच गई। इस भगदड़ में कई लोग घायल हो गए और अफसरों का काम करना भी मुश्किल हो गया। बड़ी मुश्किलों के बाद अफसरों ने कब्जा हटाया।

भारी पुलिस फोर्स के साथ हटाया गया अवैध कब्जा

मामला बढ़ता देख एसपी सिटी कुंवर अनुपम सिंह सहित अन्य अधिकारी पहुंचे और कई थानों की पुलिस भी तैनात की गई। इसके बाद ही अफसर अवैध कब्जा हटाने में कामयाब हुए।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …