गोरखपुर से ही चुनाव लड़ेंगे योगी आदित्यनाथ!

डीएन संवाददाता

यूपी की फिजाओं औऱ खासकर पूर्वांचल के इलाके में इन दिनों सिर्फ यही सवाल मौजूं है.. गोऱखपुर का अगला सांसद कौन होगा? और योगी कहां से विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे?

योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)
योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

गोरखपुर: 19 सितंबर से पहले सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ को विधान सभा या विधान परिषद में किसी एक सदन का सदस्य बनना है। इस पर सस्पेंस अभी कायम है कि योगी का अंतिम निर्णय क्या होगा? 

इसी के साथ एक औऱ सवाल का जवाब लोग बाग ढूंढ रहे हैं कि गोरखपुर से लोकसभा का चुनाव कौन लड़ेगा?

राज्य की दो लोकसभा सीटों फूलपूर औऱ गोरखपुर में आने वाले दिनों में केशव प्रसाद मौर्य औऱ योगी आदित्यनाथ की जगह नये सांसद चुने जाने हैं। 

संभावित दावेदार अपनी-अपनी गोटियां बिठाने में जुटे हैं। 

इस बीच डाइनामाइट न्यूज़ को यह खबर हाथ लगी है कि राष्ट्रपति चुनाव के बाद योगी और मौर्य अपनी-अपनी सीटों से इस्तीफा देकर विधान सभा का चुनाव लड़ेंगे।

यह भी पढ़ें: यूपी सीएम की रेस में सबसे आगे हैं योगी आदित्यनाथ

योगी कहां से लड़ेंगे चुनाव?

अब सबसे बड़ा सवाल यूपी के राजनीतिक गलियारों में यह है कि क्या योगी अपनी राजनीतिक भूमि गोरखपुर से विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे या फिर अयोध्या या कही और से?

डाइनामाइट न्यूज़ को सूत्रों ने बताया है कि योगी गोरखपुर से ही चुनाव लड़ेंगे लेकिन यह सीट सदर की होगी या फिर ग्रामीण की इस पर पेंच फंसा हुआ है।

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ का बजा डंका, योगी आदित्यनाथ ही बने सीएम, एक सप्ताह पहले ही डाइनामाइट न्यूज़ ने कर दिया था ऐलान

राधा मोहन का क्या होगा रुख?

चर्चाओं की मानें तो योगी गोरखपुर सदर से चुनाव लड़ना चाहते हैं लेकिन यहां से चौथी बार चुनाव जीते मौजूदा विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल सीट खाली करेंगे? यह थोड़ा मुश्किल नज़र आ रहा है.. खबरचियों का कहना है यदि अग्रवाल को लोकसभा का चुनाव लड़ाया जाये तो वे अपनी विधायकी छोड़ने को तैयार हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: पूर्वांचल में योगी का बजा डंका, सीएम की रेस में आदित्यनाथ सबसे आगे

गोरखपुर ग्रामीण सीट भी है विकल्प

यदि किसी कारणवश गोरखपुर की सदर सीट पर बात नही बनी तो फिर ग्रामीण सीट से योगी चुनाव लड़ेंगे। यहां के विधायक विपिन सिंह से सीट खाली कराने को लेकर उन्हें कोई समस्या नही आयेगी।

वैसे योगी के लिए विधानसभा चुनाव लड़ना और जीतना किसी भी तरह से मुश्किल नही है। वे 1998 से लगातार पांचवी बार गोरखपुर से सांसद चुने गये हैं। हर बार उनके जीत का आंकड़ा रिकार्ड तोड़ बढ़ता ही जाता है। बस फाइनल होना है तो उनके सीट का नाम..

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार