UP: माफिया अतीक अहमद के मददगार पुलिसवालों पर भी चलेगा योगी सरकार का डंडा, हो रही है ये तैयारी

डीएन ब्यूरो

पूर्व बाहुबली सांसद और माफिया अतीक अहमद के साथ ही योगी सरकार अब उसके मददगार पुलिसकर्मियों पर भी शिकंजा कसने की तैयारी में है, इसके लिये राज्य भर में पुलिस वालों की सूची तैयार की जा रही है। पढिये, डाइनामाइट न्यूज की स्पेशल रिपोर्ट..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अब उन पुलिस कर्मियों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई करेगी, जिन्होंने माफिया अतीक अहमद को किसी न किसी रूप में मदद पहुंचाई। पुलिस अतीक से जुड़े 30 मामलों का पता लगा चुकी है। ज्यादातर मामलों में गलत पते और क्रिमिनल रिकॉर्ड को छिपाकर असलहों के लाइसेंस लिए गए थे। अब उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी, जिन्होंने असलहों के लाइसेंस की फाइल का वेरिफिकेशन करते हुए उन्हें पास किया था। 

माफिया घोषित किए गए पूर्व बाहुबली सांसद अतीक अहमद के साथ ही योगी सरकार अब उसके मददगार पुलिसकर्मियों पर भी शिकंजा कसने की तैयारी में है। सरकार के निर्देश पर पुलिस हेडक्वार्टर ऐसे पुलिस वालों की लिस्ट तैयार कर रहा है, जो उसके एहसानों तले दबकर उसके गुनाहों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय अपनी नजरें घुमा लेते थे।

 लिस्ट में सबसे पहले उन पुलिसकर्मियों का नाम रखा जाएगा, जिन्होंने अतीक अहमद और उसके गैंग के क्रिमिनल रिकॉर्ड-दागी छवि और गलत डाक्यूमेंट्स को नजरअंदाज करते हुए उन्हें असलहे दिए जाने की सिफारिश की थी।

पुलिस अफसरों का कहना है कि अतीक और उसके गैंग के सदस्यों के असलहों के लाइसेंस का वेरिफिकेशन करने वालों की गलती होने पर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ये पता लगाया जा रहा है कि ऐसे लोगों की वेरिफिकेशन रिपोर्ट कैसे पास हो गई, जिनके आधार पर उन्हें असलहों का लाइसेंस मिल गया। प्रयागराज पुलिस अब तक अतीक से जुड़े ऐसे 30 मामलों का पता लगा चुकी है। इनमें से ज्यादातर मामलों में गलत पते और क्रिमिनल रिकॉर्ड को छिपाकर असलहों के लाइसेंस लिए गए थे। 

तथ्यों को छिपाने वाले अतीक के परिवार और गैंग के सदस्यों के खिलाफ तो धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया ही जाएगा और साथ ही उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी जिन्होंने इन असलहों के लाइसेंस की फाइल का वेरिफिकेशन करते हुए उन्हें पास किया था।

गौरतलब है कि बाहुबली अतीक का खाकी से पुराना याराना रहा है। तमाम पुलिसकर्मियों पर उसके एहसान तले दबे होने और गुनाहों से नजरें फेरने के आरोप लगते रहे हैं। पिछले 10 दिनों में प्रयागराज के पूर्व एसएसपी अभिषेक दीक्षित समेत जिन वर्दी वालों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई हुई है, उनमे से ज्यादातर पर अतीक के खिलाफ कार्रवाई में नरमी बरतने और ईमानदारी से काम करने के बजाय बाहुबली को फायदा पहुंचाने के आरोप लगे हैं।
 













संबंधित समाचार