यूपीएससी में कनिष्क ने किया टॉप, सृष्टि लड़कियों में अव्वल, देखें लिस्ट

डीएन ब्यूरो

संघ लोकसेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा की फाइनल परीक्षा 2018 का परिणाम घोषित कर दिया है। इसमें बाम्‍बे आईआईटी से बीटेक कनिष्क कटारिया ने टॉप किया है जबकि सृष्टि जयंत देशमुख महिलाओं में अव्वल आई हैं। हालांकि सभी सफल परीक्षार्थियों में उनकी पांचवीं रैंक है।

कनिष्क कटारिया और सृष्टि जयंत देशमुख
कनिष्क कटारिया और सृष्टि जयंत देशमुख

नई दिल्‍ली: संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा परीक्षा 2018 के नतीजों की घोषणा कर दी है। इस परीक्षा में कनिष्क कटारिया ने टॉप किया है। वह आईआईटी बाम्बे से ग्रेजुएट कनिष्क राजस्थान के जयपुर के रहने वाले हैं। उन्होंने पहले प्रयास में यह सफलता प्राप्त की है। वहीं लड़कियों में सृष्टि जयंत देशमुख ने पहले प्रयास में ही सफलता हासिल की है। हालांकि सभी सफल परीक्षार्थियों में उनकी पांचवीं रैंक है।

इस परीक्षा में सफल परीक्षार्थी आईएएस, आईपीएस और कई केंद्रीय सेवाओं के लिए चुने जाते हैं। यूपीएससी की मुख्य परीक्षा में इस बार 10,468 परीक्षार्थी शामिल हुए थे, जिसमें से 759 ने अंतिम सफलता हासिल की है। सफल परीक्षार्थियों में 182 लड़कियां हैं। टॉप 25 में 15 लड़के और 10 लड़कियां शामिल हैं।

यूपीएससी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि आयोग ने आइएएस, आइपीएस, आइएफएस जैसी सेवाओं में नियुक्ति के लिए कुल 759 (577 पुरुष तथा 182 महिला) उम्मीदवारों के नामों की सिफारिश की है। अनुसूचित जाति से आने वाले कटारिया ने कंप्यूटर साइंस में बीटेक किया है। उन्होंने वैकल्पिक विषय के रूप में गणित लिया था। महिलाओं में शीर्ष आने वाली देशमुख, राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, भोपाल से केमिकल इंजीनियरिंग में बीई हैं। सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा तीन जून 2018 को आयोजित की गई थी।

टॉप टेन सफल परिक्षार्थी
1. कनिष्क कटारिया
2. अक्षत जैन
3. जुनैद अहमद
4. श्रवण कुमात
5. सृष्टि जयंत देशमुख
6. शुभम गुप्ता
7. कर्नाटी वरूणरेड्डी
8. वैशाली सिंह
9. गुंजन द्विवेदी
10. तन्मय वशिष्ठ शर्मा

खबरों के अनुसार सिविल सेवा परीक्षा में टॉप करने के बाद कनिष्क ने कहा, मेरे लिए भी यह बेहद चौंकाने वाला क्षण था। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं पहला स्‍थान हासिल करूंगा। मेरे मनोबल को बढ़ाए रखने के लिए मैं अपने माता-पिता, बहन और गर्लफ्रैंड को धन्‍यवाद देता हूं।

वहीं लड़की वर्ग में अव्‍वल रहने वाली भोपाल की  सृष्टि ने कहा, मेरा बचपन का सपना था कि मैं सिविल सेवा में जाऊं। उन्‍होंने भोपाल के कॉलेज से केमिकल इंजीनियरिंग में बीई से स्‍नातक किया था। अव्‍वल आने की सूचना के बाद सृष्टि जयंत देशमुख ने अपने परिजनों के साथ जश्‍न मनाया।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार