नेपाल सीमा पर मानव तस्करी रोकने के लिए डीएम-एसपी ने किया बाल आश्रय गृह का उद्घाटन

डीएन ब्यूरो

मानव तस्करी एवं बाल उत्पीड़न को रोकने के लिए भारत-नेपाल सीमा पर स्थित सोनौली में बाल आश्रय गृह का उद्घाटन महराजगंज जिलाधिकारी वीरेंद्र कुमार सिंह और एसपी आर.पी.सिंह ने किया। इस आश्रय गृह में 10 से 18 साल के बच्चों को रखा जाएगा।

 डीएम-एसपी ने किया बाल आश्रय गृह का उद्घाटन
डीएम-एसपी ने किया बाल आश्रय गृह का उद्घाटन

महराजगंज: मानव तस्करी एवं बाल उत्पीड़न को रोकने के लिए भारत-नेपाल सीमा पर स्थित सोनौली में बाल आश्रय गृह का उद्घाटन महराजगंज जिलाधिकारी वीरेंद्र कुमार सिंह और एसपी आर.पी.सिंह ने किया। उद्घाटन के मौके पर जिलाधिकारी वीरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि मानव तस्करी के शिकार बच्चे को इस आश्रय गृह में शरण दी जायेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि मानव तस्करी रोकने के साथ बच्चों के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार पर लगाम लगेगा। 

 

इस आश्रय गृह में 10 से 18 वर्ष के बच्चों को रखा जाएगा जो अनाथ,मानव व्यापार के शिकार से पीड़ित बच्चे ,भिक्षा वृत करने वाले, निराश्रित गुमशुदा, घर से भागे हुए,कूड़ा बिनने वाले, बाल व्यापार के शिकार एवं समाज से तिरस्कृत है। ऐसे बच्चों के लिए यहां रहने, खाने,पढ़ने जैसे कई तरह की सुविधाएं दी जायेगी। इन बच्चों की देखभाल का जो भी खर्च आयेगा वो जिला प्रशासन के जिम्मे होगा।

 

इस मौके पर एसएसबी डिप्टी कमाण्डेन्ट दिलीप कुमार झा,बाल कल्याण अध्यक्ष विनोद तिवारी,डी.पी.आर.ओ आजाद शत्रु ,इमरिग्रेशन प्रभारी सावंत वर्मा,क्षेत्राधिकारी नौतनवा धर्मेंद्र यादव,सोनौली चेयरमैन प्रतिनिधि सुधीर त्रिपाठी समेत कई गणमान्य लोग उपस्थित रहे। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)