VIDEO: महराजगंज पुलिस की बड़ी लापरवाही, मिसिंग लड़की का केस बंद न करती.. तो न होती उसकी हत्या

डीएन ब्यूरो

महराजगंज पुलिस की लापरवाही और असंवेदनशीलता का एक बड़ा चौकाने वाले मामला सामने आया है। फरवरी में जिस लड़की की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की गयी अब उसकी हत्या का बड़ा खुलासा हुआ है। पढिये, पूरी खबर..

शव तलाशने के लिये मौके पर मौजूद पुलिस-गोताखोर व अन्य
शव तलाशने के लिये मौके पर मौजूद पुलिस-गोताखोर व अन्य

महराजगंज: जिले की लापरवाह और असंवेदनशील पुलिस ने जिस लड़की की गुमशुदगी की फाइल को हमेशा के लिये बंद कर दिया था, उसी मामले में अब ऐसा मोड़ आया कि पुलिस भी खुद हैरान रह गयी। लगभग चार माह पुराने मामले के नाटकीय ढंग से मर्डर के रूप में उजागर होने के बाद पुलिस की पुरानी थ्यौरी पर सवाल उठने लगे हैं। फरवरी माह से गायब हुई लड़की को उसके प्रेमी ने एक हफ्ते पहले मौत के घाट उतारा और शव को राप्ती नदी में फैंककर ठिकाने लगा दिया। पुलिस यदि चैन की नींद नहीं सोती तो लड़की संभवत आज जिंदा होती।

इस मामले में एक युवक-युवती का प्रेम-प्रसंग, लड़की की गुमशुदगी, पुलिस की लापरवाही, प्यार में खटास, साजिशन हत्या, बेवफा प्रेमी के कबूलनामे, और शव को ठिकाने लगाने जैसे कई सुलझे-अनसुलझे एंगल जुड़े हुए हैं, जिन्हें अब पुलिस के लिये कड़ियों में जोड़ना और हत्यारोपी को कानूनी अंजाम तक पहुंचाना जरूरी हो गया है, ताकि मृतक लड़की और उसके परिजनों को इंसाफ मिल सके।  

कई रहस्यों में सिमटी इस कहानी की शुरूआत जिले के कोल्हुई थाना से शुरू होती है। इस थाने में स्थानीय क्षेत्र परसौना की गुड़िया नामक लड़की फरवरी माह में संदिग्ध परिस्थितियों में गायब हो गई थी। काफी खोजबीन के बाद जब वह नहीं मिली तो लड़की के परिजनों ने कोल्हुई थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। सुस्त और असंवेदनशील पुलिस ने भी गुमशुदगी की रिपोर्ट को हमेशा के लिये ठंडे बस्ते में डाल दिया औऱ इस चैन की नींद सो गयी।

पुलिस कर रही गुड़िया के शव की तलाश

लगभग चार माह बीत जाने के बाद इस मामले में अब अचानक तब नया मोड़ आया, जब सिद्धार्थनगर जनपद के जोगिया उदयपुर थान में ग्राम टडिया निवासी शिवांश मिश्रा (गुडिया का प्रेमी) ने नया खुलासा किया। गुडिया के प्रेमी शिवांश ने सिद्धार्थनगर पुलिस के सामने महज एक सप्ताह पहले खुद गुड़िया की हत्या करने और उसके शव को राप्ती नदी में फैंकने की बात कबूल की। युवक के इस खुलासे से जोगिया उदयपुर थाने में हड़कंप मच गया।

पुलिस ने कथित प्रेमी युवक शिवांश को हिरासत में लेकर महराजगंज पुलिस को इस मामले की सूचना दी। जिसके बाद नींद में सो रही कोल्हुई पुलिस के होश उड़ गये। आनन फानन में पुलिस ने एक टीम का गठन किया और उसे जोगिया उदयपुर भेजा।

युवक के खुलासे और उससे पूछताछ के बाद अब दोनों जिलों की पुलिस गुड़िया के शव को राप्ती नदी में गोताखोरों की मदद से तलाश कर रही थी। खबर लिखे जाने तक पुलिस का सर्च अभियान जारी था और शव बरामद नहीं हो सका था। 

इस नये खुलासे के बाद कोल्हुई के परसौना निवासी लड़की गुड़िया के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। उनका कहना है कि अगर कोल्हुई पुलिस ने फरवरी में रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के बाद गुड़िया की खोज की होती तो आज उसके शव को इस तरह ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ती और उन्हें यह दिन नहीं देखना पड़ता। अब देखना यह है कि कथित प्रेमी के कबूलनामे के बाद भी पुलिस इस मामले को कब तक तथ्यपूर्ण तरीके से सुलझाती है। 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार