कश्मीर में बाढ़ का कहर, पीएम मोदी ने मुफ्ती को दिया हर संभव मदद का भरोसा

डीएन संवाददाता

जम्मू और कश्मीर का अधिकांश हिस्सा एक बार फिर बाढ़ की चपेट में है। झेलम खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। गलियां, नाला बन गई हैं और नदियां अपने खतरे के निशान से ऊपर उठकर हाहाकार मचाने की ओर बढ़ रही हैं, अब तक इस बाढ़ के चार लोगों की मौत भी हो चुकी है।

जलमग्न हुआ कश्मीर
जलमग्न हुआ कश्मीर

जम्मू: कश्मीर की वादियों में भारी बारिश और बर्फबारी लगातार हो रही हैं। जिसके कारण सड़कों से लेकर राजमार्ग तक सभी बर्फ से ढके हुए हैं। यहां दक्षिण और मध्य कश्मीर में बाढ़ घोषित कर दी गई है। कश्मीर में बाढ़ से अब तक 4 लोगों की मौत हो चुकी है। मौजूदा स्थितियों ने कश्मीर में आई साल 2014 की भयानक बाढ़ की यादें ताजा कर दी हैं।

बारिश प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए सेना ने मोर्चा संभाल रखा है। जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में सड़कें नदियों में बदल गई है। झेलम किनारे रहने वालों को अलर्ट कर दिया गया है।

2 सैनिकों की मौत

कश्मीर में भारी हिमपात से कई स्थानों पर हिमस्खलन की घटनाएं भी सामने आयी है। इसमें बटालिक सेक्टर में भारतीय सेना की एक पोस्ट हिमस्खलन की चपेट में आकर दफन हो गई। इस घटना में 5 सैनिक बर्फ में दब गए हैं,  जिनमें से दो सैनिकों को की मौत हो गई। 2 सैनिक सुरक्षित बाहर निकाल लिए गए है। जबकि एक जवान की तलाश लगातार जारी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में बाढ़ के हालात पर राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से बात की और कहा कि हालात से निपटने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से हर संभव मदद दी जाएगी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार