कानपुर: सरकार और खेल संस्थानों की उपेक्षा से राष्ट्रीय खिलाड़ी बना धोबी

डीएन संवाददाता

खेल संस्थाओं की उपेक्षा और आर्थिक तंगी के कारण एक नेशनल लेवल का खिलाड़ी अपना जीनव-यापन के लिए कपड़े धोने और उन पर प्रेस करने पर मजबूर है। यह खिलाड़ी देश के लिये कई पदक जीत चुका है।

स्त्री करता नेशनल लेवल का खिलाड़ी
स्त्री करता नेशनल लेवल का खिलाड़ी

कानपुर:  सरकार समेत खेल संस्थाओं की उपेक्षा और आर्थिक तंगी के कारण आज एक नेशनल लेवल का खिलाड़ी अपना जीनव-यापन के लिए कपड़े धोने और उन पर प्रेस करने को मजबूर है। इस खिलाड़ी का नाम  है- राकेश कुमार गुप्ता, जो फरुखाबाद के रहने वाले हैं। राकेश कभी बॉक्सिंग और ताइक्वांडो का नेशनल खिलाड़ी और स्पेशलिस्ट हुआ करता था। इन खेलों में वह कई सिल्वर और कांस्य पदक भी जीत चुके हैं। 

यह भी पढ़ें: रैगिंग के आरोप में IIT कानपुर के 22 छात्र सस्पेंड

फिटनेस को प्रमोट करने की कोशिश

डाइनामाइट न्यूज़ से बातचीत के दौरान राकेश ने बताया कि आज वह कपड़ों पर स्त्री करने का काम उसी जुनून से करते हैं जैसा वह खेलों के लिये करते थे। बकौल राकेश कुमार, मैने पीएम मोदी को पत्र लिखा है, लेकिन अब तक कोई जवाब नही आया। उन्होंने कहा कि यदि एक बार मुझे नौजवानों को कुछ सिखाने का मौका मिला तो मैं अपने देश और उन नौजवानों के लिए काफी कुछ कर सकता हूँ। आज भी फिटनेस को लेकर खेल को प्रमोट करने की कोशिश कर रहा हूँ।

सरकार ने नही ली नेशनल एथलीट की सुध

फिलहाल अब तक सरकार ने इस नेशनल एथलीट की कोई सुध नही ली है। राकेश ने बताया कि मुझे अपने ऊपर पूरा यकीन है कि अगर सरकार या कोई भी प्राइवेट संस्था इस मामले में  ज़रा भी मदद करती है, तो वह युवा खिलाड़ियों की फिटनेस को एक नई दिशा दे सकते हैं। उनका मानना है कि खेलना इसलिए जरूरी है, क्योंकि इससे स्वास्थ्य अच्छा रहता है। इसलिए मैं अपने आप को स्वस्थ रखने के लिये कुछ न कुछ खेलता रहता हूं,जिससे फिटनेस बनी रहे।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार