बाईक-जीप भिड़ंत में चाचा-भतीजे की मौत, एक महिला गंभीर घायल, ग्रामीणों ने की जीप चालक की धुनाई

डीएन ब्यूरो

जीप और बाइक की टक्कर में बाइक सवार चाचा भतीजे की हुई दर्दनाक मौत, महिला गम्भीर रूप से हुई घायल। पहले गुस्साएं ग्रामीणों ने चक्का जाम किया था। अब लोगों ने जीप ड्राइवर को पकड़ कर धुना। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की खास खबर..


महराजगंज: जीप और बाइक की टक्कर में बाइक सवार चाचा भतीजे की हुई दर्दनाक मौत और एक महिला घायल हो गई थी। जिसके बाद गम्भीर रूप से घायल महिला को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था।

दुर्घटनाग्रस्त बाइक

गंभीर महिला को सिसवा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। इधर घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। सूचना पर मौके पर पहुंची यूपी 100 की गाड़ी ग्रामीणों का गुस्सा देखकर मौके से फरार हो गई। हादसे के बाद लोगों ने गुस्साए ग्रामीणों ने जीप चालक को पकड़कर की धुनाई कर पुलिस को सौपा।    

थानाक्षेत्र के ही ग्रामसभा बलहीखोर निवासी बलिराम पुत्र फेंकन अपनी गर्भवती भाभी निर्मला का अल्ट्रासाउंड कराने के लिए 2 साल के भतीजे नीतीश के साथ बाइक से सिसवा आ रहा था। बाइक जैसे ही दुर्गवलिया गांव के पास पहुंची कि सबया की तरफ से तेज गति से आ रही कमांडर जीप ने बाइक को जोरदार ठोकर मार दिया। टक्कर इतनी तेज थी कि बलिराम और उसके भतीजे नीतीश की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। 

यह भी पढ़ें: महराजगंज: सड़क चौड़ीकरण के ख़िलाफ़ आम जनता और व्यापारियों का विरोध तेज

दुर्घटनाग्रस्त जीप

इधर जीप चालक मौका देखकर मौके से फरार हो गया था, लेकिन लोगों ने उसे पकड़ लिया, और पकड़ कर धुनाई कर दी। आक्रोशित ग्रामीणों ने घटना की सूचना यूपी 100 को देकर मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। जैसे ही यूपी 100 की गाड़ी घटनास्थल पर पहुंची तभी ग्रामीण पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे। जिसे देख यूपी 100 मौके पर न रुककर आगे बढ़ गई। इस पर ग्रामीण और गुस्सा हो उठे। 

यह भी पढ़ें: लखनऊ: मिठाई खाने से दो मासूम सहित 6 लोग हुए बिमार, सैंपल की जांच में जुटी टीम

घटना के ठीक एक घन्टे बाद कोठीभार एसओ सर्वेश सिंह मय फोर्स तथा एसडीएम निचलौल देवेंद्र कुमार, सीओ रणविजय सिंह, तहसीलदार मौके पर पहुंचकर किसी तरह स्थिति को काबू में किया। काफी समझाने व जीप चालक पर कार्रवाई किए जाने तथा इस मार्ग पर चलने वाले डग्गामार वाहनों की आरटीओ से जांच कराए जाने के आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने जाम को हटाया। इसके बाद पुलिस ने दोनों मृतकों के शव को पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया। जबकि मृतक की भाभी निर्मला को सिसवा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। जहां प्राथमिक उपचार के पश्चात उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार