विवादित बयान देने पर आजम खान के खिलाफ केस..

डीएन संवाददाता

सपा नेता आजम खान के विवादित बयान के विरोध में विनय पांडेय ने केस दाखिल किया है। ये केस क्यों दाखिल किया गया, जानिए डाइनामाइट न्यूज़ की इस रिपोर्ट में..

आजम खान (फाइल फोटो)
आजम खान (फाइल फोटो)

महराजगंज: समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान इन दिनों अपने विवादित बयान के चलते सुर्खियों में छाए हुए हैं। आजम खान के बयान के विरोध में सिविल कोर्ट के अधिवक्ता और मानवाधिकार कार्यकर्ता विनय कुमार पांडेय ने आजम खान के खिलाफ मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी महराजगंज की अदालत में केस दाखिल किया है।

यह भी पढ़ें: आजम खान एक बार फिर अपने बयान के कारण सुर्खियों में..

बता दें कि सपा नेता आजम खान ने देश की रक्षा करने वाले भारतीय सेना पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। आजम खान ने कहा था कि '...दहशतगर्द फौज के प्राइवेट पार्ट्स काटकर साथ ले गए। उन्हें हाथ से शिकायत नहीं थी। सिर से नहीं थी। पैर से नहीं थी। जिस्म के जिस हिस्से से उन्हें शिकायत थी, वे उसे काटकर ले गए। इतना बड़ा संदेश है, जिसपर पूरे हिंदुस्तान को शर्मिंदा होना चाहिए और सोचना चाहिए कि हम दुनिया को क्या मुंह दिखाएंगे?'

यह भी पढ़ें: आजम खान के विवादित बयान पर कानपुर में विरोध प्रदर्शन

आजम खान के इस विवादित बयान को लेकर अधिवक्ता विनय पांडेय ने भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए, 153ए, 153बी, 505(1), 511, 500 आईपीसी के तहत सीजेएम कोर्ट में केस दाखिल किया है। केस दाखिल करते समय अधिवक्ता ने कहा कि अभियुक्त आजम खान ने गैर जिम्मेदाराना बयान भारतीय सेना के खिलाफ देकर उनके मनोबल को ठेस पहुंचाने का कार्य किया है। साथ ही भारतीय सेना की छवि को खराब करने की कोशिश की है। मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी दिवाकर द्विवेदी ने इस केस को गंभीरता से लेते हुए स्वीकार किया और सुनवाई की अगली तारीख 21 जुलाई नियत की है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार