कानपुर से आतंकी कनेक्शन की आशंका, NIA टीम ने 4 लोगों को किया गिरफ्तार

डीएन संवाददाता

पुलिस और एनआईए की टीम ने लखनऊ मुठभेड़ में मारे गए आतंकी सैफुल्लाह के चचेरे भाई समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया है।

जाजमऊ का वह घर जहां से पुलिस 3 लोगों को उठा ले गयी
जाजमऊ का वह घर जहां से पुलिस 3 लोगों को उठा ले गयी

कानपुर: कानपुर में एक बार फिर से आतंकी कनेकशन जुड़ रहे है। चकेरी थाने के अंतर्गत जाजमऊ से सटे बंगाली घाट में रहने वाले एक ही परिवार के 3 लोगों को लोकल पुलिस और एनआईए की टीम उठा कर ले गयी। वही थोड़ी दूरी पर ऊंचा टीला स्थित रहने वाले आसिफ को भी उठाया गया है। बता दें कि आसिफ लखनऊ मुठभेड़ में मारे गए आतंकी सैफुल्लाह का चचेरा भाई है। सूत्रों की माने तो इस छापेमारी में एनआईए भी शामिल है लेकिन कोई भी आलाधिकारी इस मामले में तस्दीक करने को तैयार नही है।

 

लखनऊ मुठभेड़ में मारे गए आतंकी सैफुल्लाह के चचेरे भाई का घर 

आतंकी गतिविधियों से लेना देना नही

एनआईए ने मंगलवार की सुबह 11 बजे जाजमऊ से सैफुल्लाह के चाचा के बेटे आसिफ को उठाया। उसके कुछ ही देर बाद जाजमऊ बंगाली घाट से मोहम्मद आतिफ, मोहम्मद आक़िब और उनके पिता परवेज अख्तर को भी उठाया। वही मोहम्मद आतिफ की पत्नी गुलनाज फातिमा ने बताया कि उनके पति कढ़ाई का काम करते हैं और उन्हें व उनके जेठ और ससुर को टीम उठा ले गयी है। जबकि उनके पति का किसी प्रकार की आतंकी गतिविधियों से लेना देना नही है। गुलनाज ने बताया कि सैफुल्लाह एनकाउंटर के बाद भी मार्च में उनके घर के लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया जाता रहा लेकिन टीम को कुछ भी नही मिला।

सैफुलाह के परिवार से किसी प्रकार का मतलब नही

गुलनाज ने यह भी बताया कि उसके दो बच्चे- जिसमे हसन तीन वर्ष का है जबकि बेटी आशिया तीन महीने की है, को भी पुलिस और एनआईए की टीम ले गयी। गुलनाज ने बताया सुबह पुलिस वाले दो सिपाही आये थे और पति आतिफ को पूछा तो हमने बताया की वह किसी काम से शहर गए हुए है, इस पर पुलिस वाले जबरन घर में घुस गए और पूरा घर खंगाल डाला। इस पर मेरे जेठ आकिब और ससुर परवेज को खरी-खोटी भी सुनाई। इस दौरान आतिफ भी आ गया तो पुलिस तीनो को उठा कर ले गई और बोला की पूछताछ करनी है। हमारे पति कढ़ाई का काम करते है जबकि जेठ पहले चमड़ा का कारोबार करते थे लेकिन अभी चार वर्ष से घाट पर ही है, जबकि ससुर परवेज कुछ नहीं करते है, पति ही पूरा घर चला रहे है हमारा सैफुल्लाह और उनके परिवार से कोई लेना देना नहीं है। 

वही आसिफ के घर वाले कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है जबकि क्षेत्रीय लोगों की माने तो आसिफ के तीन भाई है जिसमे सबसे बड़ा अनस ,दूसरे नंबर पर आमिर और तीसरे नंबर पर आसिफ है। आफिस टेनरी में काम करता है, वहीं पिता एकबाल भी एक टेनरी में घर में काम करते है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार