यूपी में 25 वरिष्ठ आईएएस अफसरों के तबादले के पीछे की कहानी..

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के नये मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय की ज्वाइनिंग के महज दो दिन के भीतर सूबे की शीर्ष ब्यूरोक्रेसी का चेहरा बदल दिया गया है। मुख्य सचिव अपने हिसाब से फील्डिंग सजा रहे हैं ताकि वे रिजल्ट दे सकें। एपीसी, नियुक्ति,खनन, औद्योगिक विकास, वन एवं पर्यावरण, यूपीएसआईडीसी में नये मुखियाओं की नियुक्ति के अलावा पांच मंडलों के मंडलायुक्त भी एक झटके में बदल दिये गये हैं। कई बाबूओं की टीआरपी अचानक बढ़ गयी है तो कई की एक झटके में डाउन। तबादले का पूरा विश्लेषण..

तबादला सूची
तबादला सूची

नई दिल्ली: यूं तो सूबे के नये मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय फरवरी 2019 में रिटायर होंगे लेकिन हर तरफ एक ही सवाल मौजूं है कि इन 8 महीनों के कार्यकाल वे अपने मातहतों के साथ मिलकर राज्य के विकास को कितनी नयी गति दे पायेंगे? राज्य में प्रचंड बहुमत की सरकार है। ऐसे में विकास की रफ्तार तेज करने में कोई रोड़ा भी नही।

एपीसी, नियुक्ति,खनन, औद्योगिक विकास, वन एवं पर्यावरण, यूपीएसआईडीसी में नये मुखियाओं की नियुक्ति के अलावा पांच मंडलों मेरठ, मुरादाबाद, आजमगढ़, चित्रकुट धाम और बस्ती के मंडलायुक्त भी बदल दिये गये हैं। कई बाबूओं की टीआरपी अचानक बढ़ गयी है तो कई की एक झटके में डाउन। 

पुरानी सरकार में महत्वपूर्ण पदों पर तैनात रहे नवनीत सहगल के संबंध मुख्य सचिव से बेहतर हैं और ऐसे में माना जा रहा था कि वे मेन स्ट्रीम में वापसी कर सकते हैं लेकिन इस बार उन्हें निराशा हाथ लगी है जबकि अनीता सिंह धीरे से ही सही लेकिन वापसी की राह पर बढ़ती दिख रही हैं। जुगाड़बाज शरद कुमार सिंह लखनऊ के एक छोटे कमरे से निकल मंडलायुक्त की कुर्सी पर बैठने में सफल हो गये हैं। 

टीआरपी बढ़ी

1. मुकुल सिंघल

2. प्रभात कुमार

3. कल्पना अवस्थी

4. राजेश कुमार सिंह

5. अनीता सी. मेश्राम

 

टीआरपी डाउन

1. दीपक त्रिवेदी

2. रणवीर प्रसाद

अंदर की खबरों की मानें तो नये मुख्य सचिव के बैचमेट संजय अग्रवाल जल्द ही दिल्ली के लिए रवाना होने वाले हैं जहां संघ कनेक्शन के चलते किसी अच्छे मंत्रालय में सचिव के पद पर तैनात होने की प्रबल संभावना है। संजय और पांडेय के बीच मुख्य सचिव के पद को लेकर जबरदस्त खींचतान थी। खबर तो यहां तक है कि सीएम संजय को सीएस बनाना चाहते थे लेकिन दिल्ली की कृपा से बाजी पांडेय के हाथ लगी। 

इधर दूसरी बड़ी खबर अंदर खाने से ये है कि दीपक त्रिवेदी बहुत देर तक साइड लाइन रहने वाले नहीं है और जल्द ही इनकी मेन स्ट्रीम में पुर्नवापसी होगी। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?