सिद्धार्थनगर: नाबालिग लड़की को भगाने वाले आरोपियों को गिरफ्तार न कर सकी पुलिस

डीएन संवाददाता

चिल्हिया थाना के ग्राम कपिया राउत में नाबालिक लड़की को डरा धमकाकर भगाने के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को तो गिरफ्तार कर लिया है लेकिन अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाये जा रहे हैं। पूरी खबर..

न्याय के इंतजार में पीड़ित परिवार
न्याय के इंतजार में पीड़ित परिवार

सिद्धार्थनगर: चिल्हिया थाना के ग्राम कपिया राउत में नाबालिक लड़की को डरा-धमकाकर भगाने का मामला प्रकाश में आया है। न्यायालय में लड़की के दिए गए बयान पर पुलिस ने  एक आरोपी शमशाद के पास्को एक्ट के तहत गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है। आरोप है कि पुलिस इस मामले के अन्य आरोपियों को बचाने में लगी हुई है। आरोपी लगातार पीड़ित परिवार को धमकी दे रहे हैं जिससे पीड़ित परिवार काफी दहशत में है। 

 

 

गौरतलब है कि बीते माह की 29 तारीख को मुख्तार के ग्राम प्रधान के घर से कुछ कहा-सुनी हो गई थी, जिसके बाद प्रधान के नाती शमशाद और उसके रिश्तेदारों ने मुख्तार की एक लड़की को सोते समय अगवा करके गाड़ी में ड़ालकर लखनऊ भेज दिया। घटना के वक्त पीड़िता के माता-पिता घर पर मौजूद नहीं थे।

 

 

जब घर पर लड़की के माता-पिता आए उनको घटना की जानकारी हुई। उन्होंने थाने में जाकर आरोपियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस पर दबाव पड़ा तो पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को तो गिरफ्तार कर लिया लेकिन अन्य आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की। 

पुलिस अभी तक लड़की को भगाने की साजिश का पूरी तरह पर्दाफाश नहीं कर सकी है। पीड़ित परिवार अभी भी काफी खौफ में बताया जाता है। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार