केजरीवाल सरकार ने पेश किया तीसरा बजट, दिल्ली को दी ये सौगातें

डीएन ब्यूरो

दिल्ली के डिप्टी ‌सीएम और वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को विधानसभा में बजट पेश किया। बजट भाषण की शुरूआत में सिसोदिया ने पढ़ा शेर, ‘एक रात को आसमां का निजाम मेरे नाम कर दे मैं सारे तारे उठाकर गरीबों में बांट दूंगा’।

दिल्ली के डिप्टी ‌सीएम और वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया

नई दिल्ली: दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की सरकार का तीसरा बजट पेश किया गया। राज्य के वित्तमंत्री का प्रभार संभाल रहे उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सदन में 2017-18 के बजट का ऐलान करते हुए कहा कि इस साल किसी नए कर का प्रस्ताव नहीं है और ना ही कोई कर बढ़ाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जीएसटी की वजह से कर में तेजी आएगी, इसलिए कोई नया कर नहीं लगाया गया है. दिल्ली सरकार ने 2017-18 के लिये 48,000 करोड़ रपये का बजट पेश किया.

मनीष सिसोदिया ने बताया कि वरिष्ठ नागरिक की पेंशन में एक हजार की बढ़ोतरी हुई. कुशल और अर्धकुशल मजदूरों के वेतन में बढ़ोतरी, गेस्ट टीचर्स के वेतन में बढ़ोतरी की गई। सिसोदिया ने कहा कि हमने मिनिमम वेजेस को 37 प्रतिशत तक बढ़ाया.

सिसोदिया ने बताया कि अब EWS कोटे में एडमिशन लेने के लिए रेफरेंस की जरूरत नहीं होती. सिसोदिया ने बताया कि उस सिस्टम को खत्म कर दिया गया है. सिसोदिया ने कहा कि नोटबंदी के बावजूद दिल्ली की जीडीपी बढ़ी है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी की वजह से दिल्ली को काफी नुकसान हुआ.

पढ़िए बजट की खास बातें

-वरिष्ठ नागरिकों की पेंशन 1 हजार रुपए बढ़ाई गई।
-बढ़ी हुई फीस को वापस लिया गया।
-110 मोहल्ला क्लीनिक खोले गए।
-10 वर्ल्ड क्लास रैन बसेरा बनाने का ऐलान।
-कुशल और अर्ध कुशल मजदूरों के वेतन में वृद्धि।
-गेस्ट टीचर का वेतन बढ़ाया।
-दिल्ली में बिजली के दाम में 50 फीसदी की कमी।
-दिल्ली में दो नए डीआईआईटी स्थापित किए जाएंगे, ताकि शिक्षा की क्वॉलिटी में सुधार हो।

-कुल 8,000 स्कूलों के कमरे बनकर तैयार हैं।

-156 सरकारी स्कूलों में नर्सरी की क्लास शुरू की जाएंगी।

-10 अर्ली चाइल्डहुड लर्निंग सेंटर खोले जाएंगे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार