करवा चौथ का व्रत शादीशुदा महिलाओं के लिये अति सौभाग्यशाली, जाने पूजा की विधि

डीएन ब्यूरो

आज देशभर में करवा चौथ का व्रत बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। यह व्रत शादीशुदा महिलाओं के लिये कई मायनों में सौभाग्यशाली माना जाता है। पढ़ें, करवा चौथ व्रत के पूजा-अर्चना की विधि और इससे जुड़ी कहानियां

देशभर में  आज करवा चौथ की धूम
देशभर में आज करवा चौथ की धूम

नई दिल्ली: आज सुहागिनों का त्योहार करवा चौथ देशभर मे बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। पति की लंबी आयु के लिए महिलाएं करवा चौथ का व्रत रखती हैं। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक करवाचौथ का पर्व कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है।

पति की लंबी उम्र और अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए इस दिन चंद्रमा की पूजा की जाती है। चंद्रमा के साथ-साथ भगवान शिव-पार्वती, श्रीगणेश और कार्तिकेय की पूजा की जाती है। महिलाएं करवा चौथ के दिन शिव-पावर्ती और कार्तिकेय की पूजा-अर्चना करती हैं। इसके बाद वे शाम को छलनी से चंद्रमा और पति को देखते हुए पूजा करती हैं। 

 

करवा चौथ के व्रत के पीछे कई मान्यताएं हैं। एक आख्यान के मुताबिक माना जाता है कि करवा चौथ का व्रत करवा नाम की धोबिन के नाम पर पड़ा है। करवा इतनी बहादुर महिला थी कि उसने मगरमच्छ के मुंह से अपने पति की जान बचाई। उससे खुश होकर यमराज ने करवा को उसके पति की दीर्घायु होने का वरदान दिया। इसके साथ यह भी कहा कि जो स्त्री करवा चौथ का व्रत रखेगी, उसको सौभाग्यवती होने का वरदान मिलेगा। 


एक अन्य कहानी के मुताबिक यह पर्व महाभारत से जुड़ा हुआ है। पौराणिक कथा के अनुसार एक बार पांडव पुत्र अर्जुन के लिए नीलगिरी पर्वत पर जाते हैं। दूसरी ओर बाकी पांडवों पर कई तरह की मुसीबतें आने लगती हैं। परेशान होकर द्रौपदी भगवान श्रीकृष्ण से उपाय पूछती हैं। भगवान श्रीकृष्ण द्रौपदी को कार्तिक कृष्ण चतुर्थी के दिन करवाचौथ का व्रत कर सभी संकटों से मुक्ति का उपाय बताते हैं। इस व्रत को पूरे विधि-विधान से पूर्ण कर द्रौपदी को सभी संकटों से मुक्ति मिल जाती है। इसी कथा के आधार पर करवाचौथ का व्रत मनाया जाता है।
पौराणिक काल से मनाया जा रहा करवाचौथ का त्योहार आज भी सुहागिनें पूरी श्रद्धा के साथ मनाती हैं और पूरे-विधि विधान के साथ इस व्रत का उद्यापन कर अपने सुहाग की रक्षा का कर्तव्य निभाती हैं।

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार