फोन पर पति ने दिया तलाक, योगी के पास पहुंची पीड़िता

डीएन संवाददाता

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने आवास पर जनता दरबार लगाया था। उनके आवास के बाहर लोगों का तांता लगा रहा। लेकिन अचानक ही कुछ ऐसा हुआ की सब की नजर उस महिला पर चली गयी। आखिर क्या था मामला पढ़िए इस रिपोर्ट में।

जनता दरबार में न्याय की उम्मीद से पहुंची पीड़ित महिला

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सरकारी आवास पांच कालीदास मार्ग पर सोमवार को जनता दरबार लगाया गया जिसमें कई लोग अपनी परेशानी लेकर पहुंचे। उसी में से एक थी सीतापुर की रहने वाली एक मुस्लिम महिला जो अपनी 11 महीने की बच्ची के साथ फरियाद लेकर पहुंची थी। पीड़िता साबरीन का कहना था कि उसके निकाह को अभी दो साल भी पूरे नहीं हुए है और पति ने फर्जी तरीके से तलाक दे दिया।

जनता दरबार में सीएम योगी (फाइल फोटो)

पीड़िता ने क्या कहा..
पीड़िता ने बताया कि निकाह के बाद उसके ससुराल वाले दहेज में कार की मांग कर रहे थे। कार के साथ ही बाद में वह लोग दहेज में 20 लाख रुपए की भी मांग करने लगे। इस दौरान उसने एक बेटी को जन्म दिया। बेटी के जन्म लेने के बाद ससुराल वालों के साथ पति भी नाराज हो गए और उन्होंने उसको मोबाईल फोन पर ही तलाक दे दिया। जिसे पीड़िता ने सही ढंग से सुना भी नहीं था। और अब पति ने उसे छोड़ दिया है।

योगी से पीड़िता को उम्मीद
पीड़ित महिला का कहना है कि उसे सीएम से उम्मीद है की न्याय जल्द और जरूर मिलेगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार