आजमगढ़: इटौरा जेल में दो गुटों के बीच जमकर मारपीट.. खूनी संघर्ष में कई बंदी घायल..नियंत्रण के लिए पुलिस ने की फायरिंग

डीएन ब्यूरो

आजमगढ़ के  इटौरा जेल में दो गुटों के बीच जमकर मारपीट हुई, इस खूनी संघर्ष में कई बंदी घायल हो गए। स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस द्वारा हवाई फायरिंग और आंसू गैस के गोले छोड़े गये। डाइनामाइट न्यूज की एक्सक्सलूसिव रिपोर्ट..


आजमगढ़: इटौरा जेल में दो गुटों के बीच जमकर मारपीट हुई, इस खूनी संघर्ष में कई बंदी घायल हो गए। स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस द्वारा हवाई फायरिंग और आंसू गैस के गोले छोड़े जाने की बात भी सामने आ रही है। मारपीट की घटना से जेल में अफरा तफरी मच गई। मारपीट के आरोप में सात बंदियों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

बिस्तर बिछाने को लेकर विनय पांडेय और अतहर नाम के कैदी के साथ मारपीट

घटना के एक दिन पहले जेल के बैरक नंबर 5 में बिस्तर बिछाने को लेकर विनय पांडेय और अतहर नाम के कैदी के साथ मारपीट हो गई थी। मारपीट में विनय पांडेय घायल हो गया था जिसका जेल अस्पताल में इलाज चल रहा है। विनय पांडे आजमगढ़ के अहरौला थाना क्षेत्र के गहजी गांव का है। अतहर सरायमीर कस्बे का रहने वाला है। दोनों पांच नंबर बैरक में बंद हैं। घटना के बाद से अतहर अपने साथियों को एकजुट करने लगा था।

कैदियों के पास से एक दर्जन मिले मोबाइल फोन

इसी सूचना पर दूसरे दिन मंडलीय जेल में एसपी सिटी कमलेश बहादुर और एडीएम प्रशासन नरेंद्र सिंह मंडलीय ने दल-बल के साथ पहुंचकर जांच पड़ताल की थी। इस दौरान कैदियों के पास से एक दर्जन के करीब मोबाइल फोन मिले थे। मोबाइल मिलने के जेल में हड़कंप मच गया था। गड़बड़ी करने वाले बंदियों पर मुकदमे दर्ज करने का निर्देश देकर चले गए थे। लेकिन बताया जा रहा है कि अधिकारियों के जाने के थोड़ी देर बाद ही कुछ बंदियों की जेल पुलिस ने पिटाई कर दी थी।

इस पर कुछ बंदियों ने नारेबाजी शुरू कर दी थी जिसके बाद जेल दो गुट आमने सामने आ गए थे। दोनों पक्षों में जमकर मारपीट और पथराव हुआ। इस दौरान बंदियों ने जेल पुलिस को भी नहीं बख्शा और उन पर पथराव कर दिया। जिसमें जेल पुलिस के लोग घायल हो गए। 

घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंची कई थानों की पुलिस

जेल में अफरा-तफरी और मारपीट की सूचना पर कई थाने की फोर्स के साथ डीएम शिवाकांत द्विवेदी और एसपी त्रिवेणी सिंह भी मौके पर पहुंचे। प्राप्‍त जानकारी के अनुसार मामले को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने कई राउंड हवाई फायर आंसू गोले भी दागे गए। बताया जा रहा है कि मामला दो वर्ग विशेष का होने की वजह से जेल में तनाव बढ़ गया है। 

माहौल ठंडा करने को काटी गई बिजली

जेल के भीतर पुलिस और बंदियों के बीच कई बार झड़प हुई। अफरातफरी के माहौल की गंभीरता को देखते हुए डीएम ने जेल की बिजली बंद करवा दी थी। 

पीएसी, फोर्स, अस्‍पताल सब थे अलर्ट पर

जिला अस्पताल के एमरजेंसी वार्ड को खाली करवाने के साथ ही अलर्ट जारी कर दिया गया था। पूरे जिले की फोर्स, पीएसी, पुलिस लाइन में रिर्जव में रखे गए पुलिसवाले भी अलर्ट पर थे।

सभी उपद्रवियों पर दर्ज होंगे केस

इस संबंध में एडीएम प्रशासन नरेंद्र सिंह ने बताया अतहर सहित अन्‍य पर केस दर्ज कराने का निर्देश जेल प्रशासन को दे दिया। गया है।

नहीं हुई फायरिंग, मामले की जांच होगी

जिला अधिकारी शिवाकांत दिवेदी ने फायरिंग जैसी किसी घटना से इनकार किया है। मामले की जांचकर कार्रवाई की जाएगी। दोनों गुटों पर नजर रखने के लिए जेल में सतर्कता बढ़ा दी गई है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)