यूपी: आधी रात को भाजपा विधायक थाने मे बैठे धरने पर, अधिकांश जिलों में डीएम-एसपी बेलगाम

डीएन संवाददाता

उत्तर प्रदेश के अधिकांश जिलों में तैनात डीएम और एसपी अपनी भयानक मनमानी पर उतारु हैं। इन पर कोई कंट्रोल लखनऊ का नहीं है। डीएम-एसपी को मनमानेपन की छूट दिये जाने का नतीजे से हालत इतनी खराब हो चुकी है कि सत्ता पक्ष के एमपी-एमएलए की कोई सुनवाई नहीं है। डाइनामाइट न्यूज़ विशेष:


उन्नाव: यूपी में जहां एक ओर अपराधों की बाढ सी आ गई है वहीं दूसरी ओर पुलिस-प्रशासन पर पार्टी के ही जनप्रतिनिधियों का कोई जोर नही है। सरकार चला रही पार्टी से जुड़ा कार्यकर्ता या नेता अगर पुलिस-प्रशासन से किसी मामले मे पैरवी करता है तो वहां ठीक इसके उलट कारवाई हो रही है। यूपी के उन्नाव जिले मे ऐसा ही देखने को मिला, जब सदर विधायक पंकज गुप्ता, खुद आधी रात को पुलिस की मनमानी से क्षुब्ध होकर थाने में अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए। 

उन्नाव पुलिस की निरंकुशता पर बिफरे भाजपा विधायक पंकज गुप्ता सदर कोतवाली मे धरने पर बैठ गए। बाद में सुबह 5 बजे के करीब जब जिले के डीएम रवींद्र कुमार, एसपी रोहन पी कनय वहां पहुंचे और पूरे मामले मे निष्पक्ष कार्यवाही का भरोसा दिया तब जाकर भाजपा विधायक अपने समर्थकों समेत धरने से उठे।

दरअसल एक मामले में पुलिस की गलत कार्यवाही पर विधायक ने सीओ से आपत्ति जतायी थी। बताया जा रहा है की रात को 1 बजे विधायक से बात होने के थोड़े देर बाद पुलिस ने बुजुर्ग व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। पुलिस की इस कार्यवाही से नाराज होकर भाजपा विधायक सदर कोतवाली पहुंचे और धरने पर बैठ गए। करीब 5 घंटे विधायक धरने पर बैठे रहे। पूरा मामला एक निर्माण कार्य को लेकर बताया जा रहा है।
 













संबंधित समाचार