Sports Buzz: सिंधू बनीं बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमैन ऑफ़ द ईयर

डीएन ब्यूरो

ओलम्पिक रजत विजेता और भारत की पहली विश्व बैडमिंटन चैंपियन पीवी सिंधू को बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमैन ऑफ़ द ईयर चुना गया है। इसके साथ ही बीसीसी ने उड़न परी पीटी ऊषा को लाइफ़टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से सम्मानित किया है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..

पीवी सिंधू (फाइल फोटो)
पीवी सिंधू (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: ओलम्पिक रजत विजेता और भारत की पहली विश्व बैडमिंटन चैंपियन पीवी सिंधू को बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमैन ऑफ़ द ईयर चुना गया है। इसके साथ ही बीसीसी ने उड़न परी पीटी ऊषा को लाइफ़टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से सम्मानित किया है।

यह भी पढ़ेंः Sports News- भारत के पांच मुक्केबाजों ने हासिल किया ओलंपिक कोटा 

केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने रविवार रात एक भव्य समारोह में विजेता सिंधू के नाम की घोषणा की । बीबीसी ने पहली बार यह अवार्ड शुरू किया था और इस पुरस्कार के लिए पांच दावेदार होड़ में थे। पांच दावेदारों में फर्राटा धाविका दुती चंद, छह बार की विश्व चैंपियन मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम, विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता पहलवान विनेश फोगाट, पैरा बैडमिंटन की विश्व चैंपियन मानसी जोशी और विश्व चैंपियन सिंधू शामिल थीं।

यह भी पढ़ेंः BAN vs ZIM- जिम्बाब्वे को हराकर बांग्लादेश ने दर्ज की सबसे बड़ी जीत 

सिंधू ने 2019 स्विट्ज़रलैंड में बैडमिंटन की विश्व चैंपियनशिप जीती थी और ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय खिलाड़ी ( पुरुष या महिला) बनी थीं।अवॉर्ड जीतने पर सिंधू ने वीडियो सन्देश में अपनी ख़ुशी व्यक्त करते हुए कहा, “मैं बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमैन ऑफ़ द ईयर टीम को धन्यवाद देना चाहूंगी। मैं बहुत ख़ुश हूं कि मुझे ये अवॉर्ड मिला है। मैं बीबीसी इंडिया को भी इस बेहतरीन पहल के लिए धन्यवाद देना चाहूंगी और शुक्रिया मेरे फ़ैन्स का भी।”

सिंधू के नाम विश्व चैंपियनशिप के पांच पदक हैं। वह ओलंपिक में बैडमिंटन के एकल मुक़ाबले में रजत पदक जीतने वाली भी पहली खिलाड़ी हैं। सिंधु ने कहा, “मैं ये अवॉर्ड अपने समर्थकों और फ़ैन्स को समर्पित करना चाहती हूं जिन्होंने हमेशा मेरा समर्थन किया है और मेरे लिए वोट किया। ये अवॉर्ड्स हमें प्रोत्साहित करते हैं कि हम और बेहतर करें। सभी युवा महिला खिलाड़ियों को मेरा यही संदेश होगा कि बतौर महिला हमें अपने आप में भरोसा करना है। सफलता की कुंजी कड़ी मेहनत है। मुझे भरोसा है कि जल्द ही और भी भारतीय महिलाएं देश के लिए पदक जीतेंगी।” 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार