सिद्धार्थनगर: सनसनीखेज तरीके से पत्नी की हत्या कर पुलिस को किया गुमराह, पहुंचा जेल

डीएन संवाददाता

एक व्यक्ति ने सनसनीखेज तरीके से पत्नी की हत्या की योजना बनाई और पत्नी को खेतों में बुलाकर उसकी हत्या कर दी। सबूत मिटाने और पुलिस से बचने के लिये आरोपी ने लाश के टुकड़े करके नदी में प्रवाहित कर दिये। फिर अचानक इस राज से पुलिस ने पर्दा उठाया। पूरी खबर..

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी

सिद्धार्थनगर: थाना खेसरहा में सनसनीखेज तरीके से पत्नी की हत्या करने और  पुलिस से बचने व सबूत मिटाने के इरादे से शव के टुकड़े-टुकड़े कर नदी में बहाने के मामले का पुलिस ने पटाक्षेप कर लिया है। शातिर हत्यारे ने थाने में अपनी पत्नी के कहीं गायब हो जाने की शिकायत भी दर्ज कराई थी और पुलिस के साथ मिलकर पत्नी को ढूंढने में 'मदद' भी कर रहा था। लेकिन हत्यारे के मंसूबों पर पानी फेरते हुए पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। 

पुलिस पूछताछ में गिरफ्तार हत्यारोपी दूधनाथ पुत्र फागु यादव ने बताया कि बीते 10 जून को उसने अपनी पत्नी सुमित्रा को खेत में बुलाया और फावड़े से उसकी गर्दन काटकर हत्या कर दी। पुलिस से बचने और हत्या के सबूतों को मिटाने के लिये उसने शव के टुकड़े किये और नदी में प्रवाहित कर दिये।

आरोपी  हत्या करने के बाद पुलिस व अपने ससुराल के लोगों को लगातार गुमराह कर रहा था। आरोपी युवक ने अपने साले रामप्रसाद को बताया कि उसकी पत्नी कहीं चली गयी है।

पुलिस को मुखबिर ने नदी के किनारे एक बोरी में लाश दिखाई देने की सूचना दी। मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर  पुलिस ने गोताखोरों की टीम नियुक्त करके बूढ़ी राप्ती ग्राम कुडजा में दो दिन लगातार लाश को तलाश किया। शव बरामद होने पर पुलिस टीम ने ग्रामीणों व मृतका की मां से इस शव की पहचान कराई। मृतका की मां और ग्रामीणों ने शव की पहचान सुमित्रा के रूप में की।  

थानाध्यक्ष रणधीर कुमार मिश्र ने बताया कि पुलिस टीम ने इस मामले में मृतका के पति से जब कड़ी पूछताछ की तो वह टूट गया और उसने पुलिस को हत्या की पूरी कहानी बता दी। आरोपी  अपनी पत्नी से 6 वर्षों से अलग रह रहा था। पुलिस ने आरोपी को पेंडारी चौराहे से गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?