दिल्ली मेट्रो में महिला पॉकेटमारों का आतंक

डीएन संवाददाता

दिल्ली की लाइफ-लाइ कही जाने वाली मेट्रो भी सुरक्षित नही है। कैसे यह जानिये डाइनामाइट न्यूज़ की इस एक्सलूसिव रिपोर्ट में।

दिल्ली मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों की भीड़
दिल्ली मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों की भीड़

नई दिल्ली: दिल्ली मेट्रो में सफर करते वक्त अपने सामान को लेकर कुछ ज्यादा सतर्कता बरतें। दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा में लगे CISF ने जो डेटा रिलीज किया है उसमें कई चौंकाने वाले तथ्य हैं। CISF ने बताया कि इस साल अभी तक जेब काटने के मामले में पिछले साल के मुकाबले 3 गुना है। जनवरी से मई तक के डेटा को देखें तो पॉकेट मारी में 77 फीसदी महिलाएं पकड़ी गई हैं। CISF ने इस पर रोक लगाने के लिए पिछले महीने एक अभियान शुरू किया है।

 

CISF के डेटा के अनुसार पकड़े गए 521 पॉकेटमारों में से 401 महिलाएं थीं। 148 पॉकेटमारों को यात्रियों की मदद से पकड़ा गया। चोरी पर रोक लगाने के लिए बनी टीम में एक सब-ऑफिसर और एक कॉन्सटेबल होगा जो संदिग्धों पर हर तरह से नजर रखेगा। इनकी मदद के लिए ग्राउंड पर स्टाफ तैयार रहेगा। टीम सादे कपड़ों में होगी जिससे वह लोगों के बीच में रहकर संदिग्धों को धर पाएं।

 

एक वरिष्ठ CISF अधिकारी ने बताया स्पेशल टीम हर लाइन पर चोरी रोकने के लिए अभियान चलाती रहेगी। सबसे ज्यादा पॉकेट मारी की घटनाएं चांदनी चौक, शाहदरा, हुडा सिटी सेंटर, कीर्ति नगर, नई दिल्ली और तुगलकाबाद में होती हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार